Wednesday, 18th October, 2017

कैंटीन के बासी खाने से परेशान सांसद मुंबई के डिब्बावालों की शरण में पहुंचे

31, Jul 2014 By jayjeet

नई दिल्ली/मुंबई। संसद की कैंटीन का खाना खराब होने की शिकायत के बाद सांसदों ने अब मुंबई के डिब्बावालों की शरण ली है। कम से कम 100 सांसदों ने तय किया है कि अबसे वे अपने घर का ही टिफिन खाएंगे। टिफिन पहुंचाने की व्यवस्था मुंबई के डिब्बावाले करेंगे। इसके लिए उन्हें चार चार्टर्ड प्लेन मुहैया करवाए जाएंगे।

Shiv Sena
राजन विचारे

बुधवार को संसद में कुछ सांसदों ने संसद की कैंटीन में बासी खाने का मुद्दा उठाते हुए शिकायत की थी कि इसे खाकर वे बीमार पड़ गए। इसके बाद से ही कुछ सांसद कैंटीन के खाने से इतने भयभीत हो गए कि उन्होंने अपने घर का बना ताजा खाना खाने का ही निश्चय कर लिया। समस्या यह थी कि यह खाना लाएगा कौन।

इस पर भोजन मामलों के एक्सपर्ट शिवसेना के सांसद राजन विचारे की राय जानी गई तो उन्होंने मुंबई के डिब्बावालों की सर्विस लेने का सुझाव दिया। राजन विचारे के सुझाव पर सांसदों ने तत्काल मुंबई डिब्बावाला एसोसिएशन के पदाधिकारियों से फोन पर बात करके उन्हें भी सेवा प्रदान करने का आग्रह किया।

चार्टर्ड प्लेन से आएंगे डिब्बे: अलग-अलग राज्यों में फैले सांसदा के नेटिव से एकदम फ्रेश खाना सही समय पर पहुंचाने से पहले तो डिब्बावाला एसोसिएशन ने साफ इनकार कर दिया। लेकिन जब सांसदों ने फोन पर धाराप्रवाह भाषण देकर उन्हें उनकी सेवा की गौरवशाली परंपरा की याद दिलाई तो वे इस कार्य के लिए राजी हो गए।

इसके लिए सांसदों ने उन्हें बत्तीस सीटर वाले चार चार्टर्ड प्लेन उपलब्ध करवाने का भरोसा दिलाया। इस बीच कम से कम 50 सांसदों ने संसदीय कार्यमंत्री वेंकैया नायडू को पत्र लिखकर ये चार्टर्ड प्लेन मुहैया करवाने का आग्रह किया है। नायडू ने राष्ट्रहित में इस आग्रह पर उदारतापूर्वक विचार करने का आश्वासन दिया है।