Sunday, 23rd July, 2017

ग़ाज़ियाबाद में फुटओवर ब्रिज से सड़क पार करने वाला युवक हिरासत में

15, Jan 2016 By बगुला भगत

ग़ाज़ियाबाद में आज एक संदिग्ध युवक को उस समय हिरासत में ले लिया गया, जब वह फ़ुटओवर ब्रिज से सड़क पार करने की कोशिश कर रहा था। यह घटना आज सुबह मोहन नगर चौराहे के पास बने पुल पर हुई।

ग़ाज़ियाबाद में फुटओवर ब्रिज से सड़क पार करने वाला युवक हिरासत में
ग़ाज़ियाबाद में फुटओवर ब्रिज से सड़क पार करने वाला युवक हिरासत में

सुबह लगभग साढ़े दस बजे का समय था। लोग रोज़ाना की तरह रेलिंग फांदकर, डिवाइडर कूद कर, गाड़ियों के आगे-पीछे से दौड़-भागकर अपने-अपने काम-धंधे पर जा रहे थे। तभी अचानक उनकी नज़र फुटओवर ब्रिज पर पड़ी। उन्होंने देखा कि एक युवक बिना किसी डर या शर्म के पुल से सड़क पार कर रहा है।

यह देखते ही भीड़ ने शोर मचाना शुरु कर दिया। वहीं थोड़ी दूर पर कुछ पुलिस वाले ट्रक ड्राइवरों से उनके बाल-बच्चों की ख़ैरियत पूछने में बिजी थे, उन बेचारों को भी ये शोर सुनकर मजबूरी में उधर आना पड़ा।

आते ही उन्होंने उस युवक को धर दबोचा। पकड़े गये युवक का नाम सुशील तिवारी बताया जा रहा है और उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। पुलिस उससे फ़ुटओवर ब्रिज पर चढ़ने का असली मक़सद पूछ रही है। वो यह जानने का भी प्रयास कर रही है कि अब से पहले वो ऐसे कितने और पुलों पर चढ़ने की वारदातों को अंजाम दे चुका है।

साहिबाबाद के चौकी इंचार्ज रामआसरे यादव ने उसे चौकी में बंद करने के बाद पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया कि “हमें लगता है कि ये उस सुनसान पुल पर चढ़कर सड़क की रेकी कर रहा था। वरना पुल पर चढ़ने की और क्या वजह हो सकती है भला!”

“लेकिन दरोगा जी, ये भी तो हो सकता है कि वो सचमुच सड़क पार करने के लिये ही पुल पर चढ़ा हो!”, एक पत्रकार के यह पूछने पर रामआसरे ने कहा, “अजी छोड़ो! सड़क पार करने के लिये भी कभी कोई पुल पर चढ़ता है यहां! 25 साल तो हमें भी हो गये नौकरी करते हुए। आज तक तो ऐसा नहीं देखा!”

“तो फिर सरकार ने ये फुटओवर ब्रिज बनाया ही क्यों है?”, इस पर दरोगा जी ने ज्ञान पादते हुए कहा कि “ये पुल इसलिये बनाये जाते हैं, जिससे लोगों को हमारा शहर सुंदर लगे। इन पुलों पर लोग बैनर और होर्डिंग लगाकर नये साल की, होली-दिवाली की और 26 जनवरी की शुभकामनाएं भी देते हैं।”

उधर, इस घटना से सुरक्षा एजेंसियों के भी कान खड़े हो गये हैं। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के अधिकारी पता लगा रहे हैं कि पुल पर चढ़ने की इस घटना के तार कहीं किसी आतंकी वारदात से तो नहीं जुड़े हुए हैं।