Thursday, 21st September, 2017

योगी सरकार: कमल के फूल उगाने के लिए साइकिल ट्रैक की जगह कीचड़ और हाथी की मूर्तियों के सूँड में लगाया जाए कमल

13, Apr 2017 By GADHEKI DUM

योगी आदित्यनाथ सरकार पहले दिन से एक्शन में है एवं पूर्ववर्ती सरकारों की योजनाओं पर हमलावर बनी है। योगी कैबिनेट की दूसरी बैठक में निर्णय लिया गया है की अखिलेश यादव सरकार द्वारा बनाये गए साइकिल ट्रैक को तुड़वाकर उसकी जगह कीचड़ किया जायेगा और उसमे कमल के फूल उगाये जायेंगे। ऐसा करने से पार्टी के चुनाव चिन्ह का खूब प्रचार होगा।

हाथी के सूंड में भी अब कमल खिलेगा
हाथी के सूंड में भी अब कमल खिलेगा

इसका फायदा 2019 के लोकसभा चुनावों में पार्टी को जरूर मिलेगा। इसी तरह सुश्री मायावती जी के मुख्यमंत्री काल में बनी हुई हाथी की मूर्तियों के सूँड में भी कमल का फूल फिट करने का प्लान है। कुछ मंत्रियों ने योगीजी को चेताया की हाथी की मूर्तियाँ सुश्री मायावतीजी को ले डूबी, साइकिल ट्रैक श्री अखिलेश यादव जी को ले डूबे। कहीं कमल के फूल का आईडिया हमें भी न ले डूब जाय। मगर योगीजी कुछ सुनने के मूड में नहीं थे।

आलू का न्यूनतम समर्थन मूल्य 487 रुपये प्रति क्विंटल जाहिर करने पर एक तरफ जहाँ किसान खुश है, वहीँ दूसरी तरफ आलू माफिया, जो की आलू  की कालाबाजारी करते थे, वे दुखी है। सबसे अधिक दुःख युवराज को है। उन्हें दुःख इस बात का है की आलू की फैक्ट्री का अनमोल आईडिया लांच करने के बावजूद उनके जीजा पूरे उत्तर प्रदेश में एक भी आलू की फैक्ट्री नहीं लगा पाए।

एंटी रोमियो स्क्वाड की अपेक्षा “रोमियो” शब्द के कारण अधिक लोग आहत है। इसमें मुख्य रूप से श्री प्रशांत भूषण, “रोमियो जूलियट” के रचयिता श्री शेक्सपियर शामिल है। इसे देखते हुए स्क्वाड का नाम बदलने पर विचार हो रहा है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री श्री देवेंद्र फडणवीस ने “एंटी चिड़ीमार स्क्वाड” नाम रखने का सुझाव दिया है। मगर अभी योगीजी को कोई दूसरा नाम पसंद नहीं पड़ रहा। साथ ही उनका तर्क है की हमने चुनाव घोषणापत्र में “एंटी रोमिओ स्क्वाड” का ही वादा किया था। ऐसेमे नाम बदलना वादाखिलाफी जैसा हो जायेगा। कैबिनेट की बैठक अभी जारी है, जैसे ही अन्य निर्णयों का हमें पता चलेगा, हम उसे तोड़-मरोड़कर आपके समक्ष पेश करेंगे।