Tuesday, 12th December, 2017

शाहरुख़ की फ़िल्म हिट होने की उम्मीद कर रहे फैन "अंधविश्वासी" घोषित

17, Aug 2017 By ak

अभी अभी मिली खबर के अनुसार यूनेस्को ने भारत से जुड़ी एक बड़ी घोषणा की है। ये घोषणा उसी यूनेस्को ने की है जिसने धरोहर के तौर पर पहलाज निहलानी को ‘ अंतर्राष्ट्रीय कटर’, सोनम गुप्ता को ‘अंतर्राष्ट्रीय बेवफा’ और भारतीय प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी को ‘अंतर्राष्ट्रीय यात्री’ घोषित किया था। अब यूनेस्को ने एक और घोषणा की है। शाहरुख़ खान के वो फैन्स जो उनसे एक हिट की तथा आमिर, सलमान के रिकॉर्ड तोड़ने की उम्मीद लगाये बेठे हैं, को ‘अंतर्राष्ट्रीय अंधविश्वासी’ घोषित कर दिया गया है।

घोषणा सुनते ही किंग ख़ान फुट फुट के रो पड़े
घोषणा सुनते ही किंग ख़ान फुट फुट के रो पड़े

गौरतलब है कि शाहरुख़ खान बॉलीवुड के किंग खान, बादशाह कहे जाते हैं, पर पिछले 6-7 सालों से वे बॉक्स ऑफिस की लड़ाई में आमिर और सलमान से बहुत पीछे छूट गए हैं। उन्होंने बाजीगर, डर, स्वदेस, बादशाह, दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे और चक दे इंडिया जैसी फ़िल्में दी है। इनमें से कुछ फ़िल्में बॉक्स ऑफिस पर रिकॉर्डतोड़ रही तो कुछ लम्बे समय तक लोगों को पसन्द आती रही। पर कुछ सालों से उनकी ऐसी फ़िल्में आ रही है जिनमें ना कहानी अच्छी होती है और ना ही मास अपील। ये फ़िल्में दर्शकों को अपनी और खींच नही पाती।

इसमें कोई दो राय नही कि जब बात नॉलेज की हो तो सवा सौ करोड़ देशवासी ही नही बल्कि दुनिया के अधिकतर लोग शाहरुख़ के सामने बौने नज़र आते हैं। वो दुनिया के सर्वाधिक अमीर अभिनेताओं में शुमार है। उनकी फैन फॉलोइंग भी दुनिया भर में है। उनकी हाजिर जवाबी और ह्यूमर को कोई टक्कर नही दे पाता। उनकी स्पीच की बात की जाए तो हाल ही में टेड टॉक शो में उनकी स्पीच ने कईँ सेलिब्रिटीज का दिल जीत लिया।उन्हें सूचनाओं का महासागर (ocean of information) कहा जाए तो भी कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। उनके सहकलाकार भी इस बात को मानते हैं।

बिज़नेस करने में भी लोग उनसे सीखते नजर आते हैं। पर बात जब फ़िल्में चुनने की हो तो वो यहां मात खाते दिखाई देते हैं। उनकी पिछली फ़िल्में बहुत ज्यादा फैन्स होने के कारण हिट तो हुई पर उनकी स्टेटस को देखते हुए उनकी 100 करोड़ कमा लेने वाली फ़िल्म को हिट कहना गलत होगा। जब उनसे पुछा गया कि वो फिर स्वदेस या चक दे इंडिया जैसी फ़िल्म क्यों नही करते तो उनका यही जवाब आता है कि क्योंकि वो एक बार वैसी फ़िल्म कर चुके है तो दोबारा क्यों करेंगे। लगातार ऐसी फ़िल्में देने के बाद भी फैन्स उनसे एक बड़ी हिट की उम्मीद कर रहे हैं। यूनेस्को ने कहा ” हम इंटरनेशनल आइकॉन शाहरुख की फिल्मों पर लगातार नज़र बनाये हुए थे और हमें लगता है अब वक़्त आ गया है”।

यूनेस्को की ऐसी घोषणा से कई फैन्स ने ट्विटर पर गुस्सा जाहिर किया है। कुछ देर बाद शाहरुख़ ने भी ट्विटर पर अपनी प्रतिक्रिया दी जिसमें उन्होंने सिर्फ इतना लिखा “रोज़र फेडरर, अमिताभ और सचिन भी अपने करियर में बुरे दौर से गुजरे थे, कभी फेडरर की सन्यास की सम्भावना एक और विम्बलडन जीतने में बदल गयी थी।”