Saturday, 21st October, 2017

शादियों में शगुन के लिफाफे की जगह दिए गए फ्रीडम 251 फ़ोन, जनता ने फ्रीडम 501 की भी मांग की

19, Feb 2016 By Pagla Ghoda

मुंबई: वर्ली इलाके के पास एक मैरिज हॉल के सामने तब हाहाकार मच गया जब शराब के नशे में चूर एक बाराती ने पांच पांच सौ के नोट उड़ाने की जगह फ्रीडम 251 फ़ोन्स का एक बक्सा हवा में उड़ा दिया जिससे दुहले समेत पंद्रह बरातियों को मामूली चोटें आ गयीं | यही नहीं विवाह के तुरंत बाद जब दोनों तरफ की पार्टियों ने शगन के कलेक्शन अमाउंट की गिनती चालु की तो लिफाफों में नोट की जगह भारी मात्र में फ्रीडम 251 फ़ोन पाये गए|

251 का शगुन
251 का शगुन

लड़के के पिता भल्लालदेव मिश्रा ने फेकिंग न्यूज़ को बताया – “देखिये चिंदी चोरी की तो हद्द होती है, पिछली गली के वर्मा जी के पोते की शादी में हम 1100 रूपये का शगन डाल के आये थे, और वो हमने एक 251 रूपये का फ्रीडम 251 फ़ोन चिपका गए, कितनी गन्दी बात है जी| शगन बराबरी से देना चाहिए, कम ज़्यादा नहीं|हमारे पड़ोस के कुन्तीलाल पाण्डेय ने भी यही गन्दी हरकत की है| और उससे भी बड़ी बात इतने सारे फोनों का हम करेंगे क्या| कल सुबह कबड़िये को बुला के पूछता हूँ कितना दाम देता है, वैसे मेरे हिसाब से एक एक फ़ोन कबाड़ में भी कम से कम तीन सौ का बिकेगा|”

लड़की के बड़े भाई बाहुबली प्रसाद ने भी इस नए चलन की कड़ी निंदा की है, उन्होंने कहा – “अब देखिये कंपनियां मार्किट में सस्ती चीज़ें उतार देती हैं| सोचती हैं लोग उनका उचित इस्तेमाल करेंगे, पर देखिये जुगाड़ू जनता तो उनसे भी दो कदम आगे है| शादियों में शगन के तौर पे ये दिए जा रहे हैं फ़ोन| बैंड वालों पर नोटों के जगह फ़ोन बरसाए जा रहे हैं| उस दिन मेरे एक बिज़नेस-मैन मित्र के बच्चे की बर्थडे पार्टी में रिटर्न गिफ्ट के तौर पर बांटे गए ये फ़ोन| अरे भाई ये चल क्या रहा है?”

जाने माने कपडा व्यापारी रोगेन्द्र कट्टप्पा ने भी इस बारे में अपने ब्लॉग पर तीखी टिप्पणियां की हैं, उन्होंने लिखा – “बीती रात मैंने एक पार्टी को बाईस लाख रूपये की RTGS की| उनका जवाब आया के मैंने पचीस हज़ार रूपये ज़्यादा भेज दिए हैं| मैंने कहा कोई नहीं अगली ट्रांसक्शन में एडजस्ट हो जायेगा| लेकिन नहीं, अगले दिन उन्होंने मुझे सौ फ्रीडम 251 फ़ोन्स का एक बड़ा कार्टन भिजवा दिया| I appreciate the gesture परन्तु ये फ़ोन भेजना आवश्यक था क्या? अब मैंने एक-एक फ़ोन अपने सभी कर्मचारियों को परफॉरमेंस बोनस के तौर पर गिफ्ट कर दिया है| उसके बाद भी जो फ़ोन बच गए वो मेरी दो दुकानों के आगे जो भिखारी बैठते हैं उन्हें बाँट दिए| उसके बाद भी एक फ़ोन बच गया वो मैंने अब अपनी मेज़ पर पेपर वेट की तरह इस्तेमाल करना शुरू कर दिया है|”

देश भर से इस फ़ोन से जुडी ऐसी कई कहानियां सामने आ रहीं हैं जहाँ लोग अब बड़े शगन अमाउंट की फ़िराक में फ्रीडम 501, 1100, 11001 इत्यादि की भी मांग कर रहे हैं| आप को भी ऐसी कोई रोचक कहानी पता चले तो हमें तुरंत भेजिए| इसी बीच चेन्नई से खबर आ रही है के वहां इस मोबाइल का नया वर्जन अम्मा फ्रीडम 251 घोषित किया गया है जिसके पीछे अम्मा के फोटो बने होंगे और जो हर गरीब को एक पैकेट चावल के साथ मुफ्त बांटा जायेगा|