Wednesday, 13th December, 2017

संजय दत्त के जेल में लिखे ‘शेर’ हुए लीक, आप भी पढ़िये

02, Mar 2016 By बगुला भगत

मुंबई. बॉलीवुड अभिनेता संजय दत्त के जेल जाने से फ़िल्म प्रोड्यूसर्स का तो नुकसान हुआ लेकिन देश का फ़ायदा हो गया। वो जेल ना गये होते तो हम कभी भी उनके अंदर छुपे शायर के दर्शन ना कर पाते। मुन्ना ‘मासूम’ के नाम से उन्होंने जेल में 500 शेर लिखे, जिनकी सीक्रेट किताब फ़ेकिंग न्यूज़ के हाथ लग गयी है। पेश हैं उसके कुछ चुनिंदा शेरः-

मुन्ना ‘मासूम’ के दीवान में पहला शेर कुछ यूं हैः

sanju8
शेर लिखने की तैयारी करते संजू बाबा उर्फ़ मुन्ना ‘मासूम’

हंगामा था क्यूं बरपा, राइफ़ल ही तो रक्खी थी डाका तो नहीं डाला, चोरी तो नहीं की थी

अपने आठवें पैरोल पर ख़ुशी जताते हुए वो लिखते हैः

इक पैरोल का नग़मा है, फरलो की कहानी है ज़िंदगी यहां कटती नहीं, हमें तो घर पे बितानी है

जेल में पहली रात जब उन्हें नींद नहीं आयी, तो उन्होंने लिखाः

सारे क़ैदी सो गये, मुन्ना मासूम जागे देखो सर्किट देखो, सुई के कांटे भागे एक लोचा खतम, ये दूजा शुरु हो गया मामू सुबह हो गयी मामू…मामू…ओ मामू

अपने पुराने दिनों को याद करते हुए वो एक जगह लिखते हैः

चार बोतल वोदका, काम मेरा रोज़ था ना मुझे कोई रोका, ना किसी ने टोका मैं रहता सारी रात इन द बार, दारू पीता लगातार एक आधी सब पी लेते थे, मैं पीता था बोतल चार

बॉलीवुड के अपने एक साथी पर निशाना साधते हुए वो लिखते हैः

मुजरिम ना कहना मुझे लोगो, मुजरिम तो सारा ज़माना है पकड़ा गया वो चोर है, जो बच गया वो सल्लू सयाना है

एक बार पैरोल पर जाने से पहले ‘मासूम’ ने लिखाः

रोते हुए आते हैं सब, हंसता हुआ जो जायेगा वो पैरोलों का सिकंदर, मुन्ना मासूम कहलायेगा

एक दिन अचानक उन्हें पैरोल से लौटा हुआ देखकर जेलर के मुंह से भी एक शेर निकल गयाः

वो आये हमारे सेल में, ख़ुदा की क़ुदरत है कभी हम उनको, कभी अपने सेल को देखते हैं

तो ये थे संजू बाबा उर्फ़ मुन्ना ‘मासूम’ के चंद अशआर। अभी हम उनके लिखे बस इतने शेर ही समझ सके हैं। हमारे एक्सपर्ट दिन-रात उनकी हैंडराइटिंग को समझने में लगे हुए हैं। जैसे ही हमें और शेर समझ में आयेंगे, उन्हें भी तुरंत आपके सामने पेश करेंगे। तब तक इंतज़ार कीजिये।