Monday, 23rd October, 2017

पद्म पुरुस्कार के तर्ज़ पर दिल्ली सरकार का सम्मान

26, Jan 2016 By khakshar

हर साल की तरह इस बार भी पद्म पुरुस्कार पे छी -छा लेदर की  शुरुवात हो चुकी हैं। “कुछ को क्यों मिला”, ये सवाल ज्यादा महत्वपूर्ण हो जाता है। ये कम पुछा जाता हैं कि कुछ योग्य को क्यों नहीं मिला। जिन्हे नहीं मिलता उनका दुःख तो समझ आता हैं, पर दर्शक-दीघा का कुछ को पद्म मिलने पर विधवा -विलाप एक प्रकार का अश्लील मनोरंजन है।एक अभिनेता जिसे   योग्यता  अनुसार पहले ही पद्म पुरूस्कार मिलना चाहिए था काफी चर्चा में रहे।

वर्सटाइल जीनियस- अभिनेता, पत्रकार, राजनेता
वर्सटाइल जीनियस- अभिनेता, पत्रकार, राजनेता

इधर इन पुरुस्कारों के लिए चुने हुए व्यक्तियों से सबसे दुखी दिल्ली “राज्य”- सरकार ने अपनी एक नयी पुरुस्कार की योजना बना ली हैं। एक आधिकारिक प्रचार भी दिखेगा टीवी और अखबारो में इसके लिए। फोटोशॉप के लिए प्रख्यात सत्तारूढ़ पार्टी के एक सदस्य को इस नई पुरुस्कार योजना का मॉडल तैय्यार करने का दयितव्य मिला हैं। प्रवृति अनुसार इन महानुभव ने पुरुस्कार का नाम भी दे दिया हैं। दिल्ली सरकार द्वारा स्थापित इन पुरुस्कारों का नाम “छद्म (person-ate)” पुरुस्कार रखा जायेगा।

2017 के छद्म पुरुस्कार के लिए कुछ नामो का चयन भी हो चुका हैं। एक पुराने पत्रकार, जो की अंग्रेजी स्पेलिंग के भी ज्ञाता है, को अभिनय के लिए पृस्कृत किया जायेगा, उनके टीवी चैनल्स पर रोने के अभिनय के लिए। एक लम्बे हाथो वाली नेत्री को भी सम्मानित किया जायेगा उनके बाल सामाजिक कार्य के लिए। ज्ञातव्य रहे की मिठाई में ड्रग्स का भंडाफोड कर इन्होने दिल्ली की नई पीढ़ी को बचा लिया। महिला कल्याण के लिए एक बर्रिस्टर व इंजीनियर को सम्मान मिलेगा। छद्म पुरुस्कार की विश्वसनीयता बनाए रखने के लिए गोधन उत्थान के लिए बिहार के एक पूर्व मुख्यमंत्री का नाम भी लिया जा रहा हैं,एक बाबाजी को भी पृस्कृत किया जायेगा। ये निश्चित नहीं  हैं की आयुर्वेद, योग या व्यापार के लिए।

क्रन्तिकारी पत्रकारिता के लिए कुछ लोगो के नाम चल रहे है, चयन थोड़ा कठिन है।