Monday, 1st May, 2017

नम्बर वन यारी ऐड से गुस्साई पब्लिक ने तोड़ी सिड की दूसरी टाँग भी

17, Apr 2017 By Vidyabhooshan Vyas

पिछले कुछ हफ्तों से यूट्य़ूब पर आतंक का साया बन कर उभरे ‘नम्बर वन यारी विज्ञापन ने यूट्यूब यूज़र्स पर ऐसी दहशत क़ायम कर दी है कि यूट्यूब का करीब करीब पूरा देसी यूज़रबेस पॉर्नहब की ओर पलायन कर चुका है। मगर जब इसके बावजूद लोगों को नम्बर वन यारी ऐड से मुक्ति नहीं मिल पाई तो उनका गुस्सा बाँगलादेशियों की तरह सीमा पार कर गया।

हाल ही में जंगल सफारी पर गये मिश्रा दम्पत्ति को जब सिड और उसके मित्र जलप्रपात में चिल करते नज़र आये तो मिश्रा जी ने सिड की जयपुर टाँग छिपा दी और अपनी धर्मपत्नी सविता से लड़कों को उलझाये रखने को कह कर व्हॉट्सऐप ग्रूप पर ‘नम्बर वन यारी गैंग के सरगना सिड और उसके साथियों के वहाँ होने की खबर फैला दी। एक तो पहले से भरा हुआ गुस्सा उस पर व्हॉट्सऐप फ्री होने की वजह से ये खबर तमाम सुप्रभात जेपेग्स के अगल-बगल होते हुये जंगल में आग की तरह फैल गई।

आनन फानन में लोग बल्लम, लाठी, सुई, तिनका जो हाथ लगा, ले कर वहाँ पहुँच गये और इससे पहले कि ‘नम्बर वन यारी गैंग’ को खबर होती, उन पर पिल पड़े। इस चक्कर में मिश्रा जी को भी किसी ने दो चार हाथ जमा दिये, मगर समाज के लिये मिश्रा जी ने इसका बुरा नहीं माना। मौके का फायदा उठा कर अपनी दोनों टाँगों का इस्तेमाल करके सिड के दोस्त तो वहाँ से फरार हो गये मगर सिड अपनी जयपुर टाँग ढूँढने के चक्कर में तब तक पिटता रहा, जब तक छोटेबालोंवाली लड़की एॅयरटेल की स्पीड चैलेंज के लिये अगला शिकार ढूँढती हुई वहाँ न आ पहुँची। भीड़ को सिड के सामने वो किसी देवी से कम न लगी, और मौके का फायदा उठा कर छोटेबालोंवाली लड़की ने पुलिस को खबर करने की कोशिश की, मगर एयरटेल का नेटवर्क खराब होने की वजह से उसे अपने दूसरे फोन का जियो सिम इस्तेमाल करना पड़ा।

जब तक पुलिस मौका ए वारदात पर पहुँचती, जनता ने सिड की दूसरी टाँग का बोलो राम कर दिया था। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है, मगर सिड की पुरानी हरकतों को देखते हुये लगता नहीं कि इस मामले का कोई हल निकलेगा। सिड का कहना है पुलिस ने भी उसे एक दो लात जमाने के बाद ही अस्पताल का रुख किया।

सूत्रों का कहना है आम जनता में सिड के खिलाफ क्रोध की वजह से कोई चिकित्सक उसे हाथ नहीं लगाना चाह रहा था। “वैसे भी आजकल लोग बिना कारण हम पर हाथ धर देते हैं, सिड को ट्रीट करके कौन भैंस की नाक में उँगली करे?” अपनी पहचान छिपाने के चक्कर में, अपनी नेमप्लेट को छिपाते हुये डॉ महावीर सोनी ने कहा। सुनने में आया है सिड को करीब पंद्रह डॉक्टरों ने पेन किलर प्रिस्क्राईब करके टरका दिया था और इन प्रिस्क्रिपशन्स से ड्रग्स खरीद कर सिड के दोस्त, सिड को सड़क पर छोड़ कर फरार हैं। गुप्ता साहब ने उन्हें पुलिया के पास के खण्डहरों में नशा करते देखा है, मगर गुप्ता जी की  चढ़ी हुई आँखें देख कर उन पर यकीन कर पाना मुश्किल है, कि वो स्वयं भी उनके साथ नशा करके आये हैं या उनका ये हाल कल रात देखी बेग़मजान की वजह से है।

“जनरली हम खैनी रगड़ते टाईम हिंसक नहीं होते, मगर इन लौण्डों को देखते ही हम आग बबूला हो गये, और खैनी फेंक फाँक के फौरन दो चार लात हम भी जमा दिये।” नाम डिस्कलोज़ न करने की शर्त पर होटल मालिक कुलभूषण चौहान ने हमें बताते हुये बायें हाथ पर चूना मलना शुरू कर दिया। वहीं सामाजिक कार्यकर्ता बिभूति शरण श्रीवास्तव का कहना था कि इस तरह का गुस्सा लोगों मे इससे पहले सिर्फ केजरीवाल के फोन कॉल्स पर भड़का करता था मगर केजरीवाल की फोनकॉल काटी जा सकती थी, यूट्यूब पर नम्बर वन यारी एड को काट कर सीधे नदीम श्रवण के दर्द भरे नग़में ज्यूकबॉक्स तक पहुँच पाना नामुमकिन होने की वजह से ये गुस्सा पिछले काफी वक्त से सुलग रहा था।

‘हम उड़ने के लिये बने हैं सिड’ कह – कह कर चने के झाड़ पर चढ़ा कर दोस्तों ने पहली टाँग तुड़वाई थी, सिड ने बिलखते हुये कहा और कसम खाई है कि ऐसे मित्रों से वो दूर ही रहेगा।

कुछ एक्टिविस्टों ने ट्विटर पर #JusticeForSid ट्रेण्ड करवाने की ही कोशिश की है। झोलाछाप अधेड़ विद्यार्थी संघ के साठ वर्षीय युवा नेता माधो बनारसी ने कहा है – तुम कितने सिड मारोगे, हर एड से सिड निकलेगा।

महेश भट्ट ने सिड पर फिल्म बनाने का निर्णय लिया है जिसके लिये इमरान हाशमी के साथ उनकी कटी हुई टाँग की भूमिका में आफताब शिवदासानी के होने की अफवाह है।

लोगों ने इस मामले पर ताजी जानकारी लेने के लिये जब भी टीवी अॉन किया उस पर नम्बरवन यारी वाला ऐड देख कर टीवी बँद कर दिया।