Saturday, 21st October, 2017

मोदी को करारा जवाब देने के लिए होनोलुलु की म्यूनिसिपलिटी को संबोधित करेंगे नवाज़ शरीफ़, पाकिस्तान में ख़ुशी की लहर

09, Jun 2016 By Ritesh Sinha

इस्लामाबाद/होनोलुलु. इधर प्रधानमंत्री मोदी ने अमेरिका की संसद में कांग्रेस के संयुक्त सत्र को संबोधित किया और उधर पाकिस्तान में मांग उठने लगी कि हमारे प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ को भी किसी देश की संसद में भाषण देकर मोदी को करारा जवाब देना चाहिए।

Nawaz
होनोलुलु जाने से पहले रिहर्सल करते नवाज़ शरीफ़

जनता की इस मांग को ध्यान में रखते हुए शरीफ़ साहब ने फैसला किया है कि वो होनोलुलु की म्यूनिसिपलिटी (क्योंकि वहां संसद नहीं है और किसी और देश में बात बनी नहीं) को संबोधित करेंगे और मोदी को मुंहतोड़ जवाब देंगे। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री कार्यालय के प्रवक्ता ने इस बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि “शरीफ़ जी अगले हफ़्ते होनोलुलु की यात्रा पर जाएँगे और वहां धमाकेदार भाषण देंगे।”

अपने भाषण में शरीफ़ जी सबसे पहले गुजराती कढ़ी बनाने की रेसिपी शेयर करेंगे, जिससे सारी दुनिया को पाकिस्तान की ख़ुफ़िया ताक़त का अंदाज़ा हो जाएगा। उसके बाद वो साइकिल के पंचर बनाने की तकनीक पर प्रकाश डालेंगे, जिससे सारी दुनिया को पाकिस्तान की परमाणु तकनीक का अंदाज़ा हो जाएगा। और आख़िर में शरीफ़ साहब शांति, सौहार्द, भाईचारा, और विकास पर कुछ देर भाषण देंगे और अपने संबोधन को समाप्त करेंगे।

लेकिन इस यात्रा से पहले पाकिस्तान में एक नया विवाद पैदा हो गया है। वहां के कुछ न्यूज़ चैनल दिखा रहे हैं कि नवाज़ शरीफ़ अपने भाषण के दौरान तीन जोक्स मारेंगे, जबकि कुछ अख़बारों में ख़बर आई है कि शरीफ साहब चार जोक्स मारेंगे। विवाद बढ़ता देख ‘सेना’ ने बयान जारी कर कहा है कि हमने चार जोक्स मारने की इजाज़त दी है, फिर भी अगर शरीफ़ साब एक दो जोक्स एक्स्ट्रा मार देते हैं तो सेना को कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन एक शर्त है कि जोक्स की क्वालिटी अच्छी होनी चाहिए।

हमारे देश के कई विशेषज्ञों ने इस पर आश्चर्य व्यक्त किया है। उनका कहना है कि तीन जोक्स की जगह चार जोक्स की अनुमति मिलने से सिद्ध होता है कि पाक में सेना कमजोर हो रही है और लोकतंत्र मजबूत हो रहा है। उधर, इस पूरे घटनाक्रम से पकिस्तान की जनता बेहद खुश है। पता चला है कि इस ख़बर से बलूचिस्तान की 9%, पंजाब की 13%, सिंध की 15% और बाल्टीस्तान की 19% जनता में ख़ुशी की लहर दौड़ गई है।