Friday, 15th December, 2017

मैया अब रहती बीमार ... भैया अकल से लाचार

18, Oct 2013 By राजदीप सरदर्द दे साई

कांग्रेस पार्टी करे विचार

कैसे लगेगी नैया पार

मैया अब रहती बीमार

भैया अकल से लाचार

जीजू का अपना व्यापार

बनाये अरबों लगाकर हज़ार

सी बी आइ के बल तो चली सरकार

चुनाव में कैसे टालें हार

मैया अब रहती बीमार

भैया अकल से लाचार

मोदी बार बार करे प्रहार

भारत निर्माण का किया प्रचार

खरीद डाले पत्र पत्रिका और पत्रकार

फिर भी नहीं मिले शुभ समाचार

मैया अब रहती बीमार

भैया अकल से लाचार

दिग्गी सिब्बू तिवारी हुए बेकार

राजा ने किया बँटाधार

रुपये का खिसका आधार

महंगाई पहुंची आसमान के पार

मैया अब रहती बीमार

भैया अकल से लाचार

सर्वसम्मति से हुआ विचार

करो वो ही जो किया हर बार

चलाओ अपना वोह हथियार

जिसको कहते गाँधी परिवार

प्रियंका को कहो करें प्रचार

क्यूंकि मैया अब रहती बीमार

भैया अकल से लाचार

मनमोहन ने किया विचार

क्या फरक पड़ता है यार

बॉस भैया हो या दीदी

मुझे तो है बस कहना ” जी सरकार जी सरकार”.

मैया अब रहती बीमार

भैया अकल से लाचार