Monday, 11th December, 2017

अमेरिकी संसद में भाषण के दौरान गुजरात की तारीफ़ करना भूले मोदी, अब दोबारा देंगे स्पीच

09, Jun 2016 By banneditqueen

वाशिंगटन. कल रात नरेंद्र मोदी ने अमेरिका कांग्रेस को सम्बोधित किया और ख़ूब वाहावाही लूटी। भारतीय अमेरिकियों ने तो उनके भाषण का ज़ोरदार स्वागत किया ही, अमेरिकी सांसदों ने भी कई बार खड़े होकर तालियां बजायीं। अपने इस भाषण में उन्होंने हमेशा की तरह दुनिया भर की बातों का ज़िक्र किया।

Angry Modi
भाषण लिखने वालों पर नाराज़ होते मोदी

जनता को उम्मीद थी कि वो अपना भाषण ‘बहनों और भाईयों’ या फिर ‘मित्रों’ कहकर आरंभ करेंगे परन्तु संबोधन अंग्रेज़ी में होने के कारण वो ऐसा नहीं कर पाये। करीब 50 मिनट के भाषण में मोदी ने भारतीयों के योगदान और अमेरिका और भारत की दोस्ती का तो कई बार बख़ान किया लेकिन गुजरात का ज़िक्र करना भूल गये।

इस भूल का अहसास उन्हें तब हुआ जब वो अमेरिका से मैक्सिको के लिये रवाना हो गये। उन्होंने तुरंत अपने स्पीच लिखने वालों को बुलाकर हड़काया और उस स्पीच की कॉपी मंगाई। यह देखकर उनका पारा सातवें आसमान पर पहुंच गया कि स्पीच में गुजरात का कहीं नाम ही नहीं है!

आनन-फ़ानन में उन्होंने बराक ओबामा को फ़ोन किया और संसद का संयुक्त सत्र दोबारा बुलाने का अनुरोध किया। अब वो दोबारा भाषण देकर उसमें गुजरात का ज़िक्र कर पायेंगे या नहीं, इस बात की पुष्टि अभी तक नहीं हो पाई है। लेकिन सूत्रों के अनुसार, पाकिस्तान ने भाषण लिखने वालों को धमकाया है कि इस बार उसमें पाकिस्तान का ज़िक्र नहीं होना चाहिये।

इस सारे मामले पर कांग्रेस प्रवक्ता मीन अफ़जल ने चुटकी लेते हुए कहा है कि “मोदी जी का ध्यान सिर्फ़ दुनिया घूमने पर है, भारत में तो अब उनका मन लगता ही नहीं! इसलिये इसमें कोई हैरानी नहीं कि वे गुजरात का ज़िक्र करना भूल गए।” वहीं, गुजरात के युवा नेता हार्पिक पटेल का कहना है कि “मैं मोदी के भाषणों में गुजरात के योगदान के लिये आरक्षण को लेकर जेल में धरना देने वाला हूं।”