Tuesday, 12th December, 2017

राहुल गांधी के भाषण के दौरान ज़ोर से माथा पीटने के कारण छात्रा के माथे पर पड़े हथेली के निशान

19, Jan 2016 By Pagla Ghoda

मुंबई: कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी अपने वचनों एवं कर्मो के कारण कई युवाओं के जीवन पर निशान छोड़ने के लिए जाने जाते रहे हैं|

राहुल गांधी के भाषण के दौरान ज़ोर से माथा पीटने के कारण छात्रा के माथे पर पड़े हथेली के निशान
राहुल गांधी के भाषण के दौरान ज़ोर से माथा पीटने के कारण छात्रा के माथे पर पड़े हथेली के निशान

लेकिन हाल ही में निशान छोड़ने के इस प्रक्रिया को एक नईं ऊंचाई तब मिली, जब राहुल बाबा के भाषण के दौरान एक छात्रा स्वाति सरल ने अपना माथा इस कदर ज़ोर से पीटा, के उसकी हथेली के निशान उसके माथे पर जा छपे और अब मिटने का नाम नहीं ले रहे हैं|

“मेरे सुन्दर माथे की सब तारीफ करते थे, लेकिन अब मैं किसी को अपना माथा दिखने के लायक नहीं रही, इसपर मेरी हथेली के निशान जो छप चुके हैं|” – स्वाति ने पत्रकारों को बताया|

जब स्वाति से पुछा गया के उसने आखिर क्यों अपना माथा गुस्से में पीट लिया, तो वह काफी भावुक हो गयीं| उन्होंने कहा – “राहुल बाबा की मैं काफी इज़्ज़त करती हूँ| लेकिन जब उन्होंने भाषण की शुरुआत में कहा के “आज सुबह जब मैं उठा तो मैंने देखा के रात हो चुकी थी”, तो मुझे काफी अजीब लगा||”

आगे के  भाषण के दौरान उन्होंने जब एयरलाइन इंडस्ट्री पर अजीबो गरीब तथ्य देने शुरू किये तो मुझे थोड़ा गुस्सा सा आने लगा | उन्होंने कई न समझ में आने वाले तर्क देकर ये साबित करने की कोशिश की के सभी व्यवसाय आपस में जुड़े हुए हैं| उन्होंने कहा का यदि आप उड्डयन के क्षेत्र में हैं तो आप भोजन, लोहा, रबर, फेयरनेस क्रीम, सभी क्षेत्रों में भी हैं| फिर जब उन्होंने उन्ही बातों को वीमेन एम्पावरमेंट और नरेगा से भी जोड़ने के प्रयास किये तो मैं अपना धैर्य खो बैठी और मैं अपने माथा ज़ोर से पीट लिया|”

प्रसिद्ध मेडिकल विशेषज्ञ डॉक्टर परेश त्रेहन से जब इस बारे में पुछा गया तो पहले पहल तो वह कुछ फेफड़ो के चित्र दिखने लगे, जब बाद में उन्हें स्वाति के माथे के बारे में बताया गया तो उन्होंने कहा – “देखिये आज कल के युवा वर्ग में काफी रोष है| लेकिन उन्हें चाहिए के इस रोष, इस गुस्से, इस क्रोध को वो खुद पर न निकालें| खुद को आहत न करें| बल्कि इसे देश की सेवा में लगाएं| अब राहुल बाबा को ही देखिये, हमेशा हँसते मुस्कुराते रहते हैं| उनकी तरह ही इस देश का सच्चा सेवक बनिए| जो चाहे इंडिया में रहे या यूरोप में, सोचे तो बस देश के बारे में|”

स्वाति का माथा कब अपनी पुरानी स्तिथि में लौटेगा ये कहना तो कठिन है, परन्तु इस हादसे के तुरंत बाद एक नयी स्पोर्ट्स गुड्स कंपनी नें एक ऐसे हेड-बैंड को प्रमोट करना शुरू किया है जोकि काफी मोटा और गद्देदार है| इस हेडबैंड को पहनकर इंसान कितनी भी ज़ोर से माथा पीट ले, माथे का एक बाल भी बांका न होगा| कंपनी की उम्मीद है के राहुल बाबा के अगले भाषण के वेन्यू के बाहर इस तरह के हेड-बैंड की भारी मात्र में बिक्री होनी तय है|