Saturday, 21st April, 2018

लिंकअप से परेशान हुआ आधार

16, Jan 2018 By Nocaste

आधार लोगों से बोलता है कि ‘आप बस अपनी प्राइवेसी की सोचते हो, क्या आपने मेरा कुछ सोचा कभी, मैं इतनी जगह लिंक होकर कैसा फील कर रहा हूँ? आपको क्या पता इसी लिंकअप के कारण मेरी गर्लफ़्रेंड मुझे छोड़कर वोटर कार्ड भाई के पास चली गई, बताओ मैं अपना दर्द किसे सुनाऊँ आप तो पहुँच जाओगे कोर्ट और मैं कहाँ जाऊँ?’

इतना कुछ होने के बाद जब घर वालों ने आधार की एक जगह शादी की बात की तो वे यह बोल गए कि आपके लड़के का कैरेक्टर ठीक नहीं है, पता चले शादी मेरी बेटी से हो और लिंकअप पूरे मोहल्ले की लड़कियों से हो, अब आधार की तो शादी होनी भी मुश्किल हो गई। इस बात को सुन कर आधार के सारे नंबर हिल चुके थे, वो सब भूल जाना चाहता था।

परेशान आधार कार्ड ने निकाला मोर्चा
परेशान आधार कार्ड ने निकाला मोर्चा

चलो थोड़े दिन बाद धीरे-धीरे सब ठीक हुआ और आधार ने अपने प्यार का लेवल इंटरनेशनल कर लिया था, उसको ‘पासपोर्ट’ की लड़की वीजा से प्यार हुआ । वहाँ लिंकअप वाली प्रोब्लम भी नहीं थी, बस ‘वीजा’ चाहती आधार उस से सच्चा प्यार करे, सब सही चल रहा था फिर कहीं से खबर आती है कि आधार डाटा लीक हो गया , मानो आधार को सदमा लग गया हो डेटा लीक के बाद, उसकी जिंदगी फिर से चरस होने लगी, वीजा ने भी आधार पर शक करना शुरू कर दिया और धीरे-धीरे उसके पापा पासपोर्ट को भी आधार खटकने लगा वह बोलने लगे कि तुम्हारी इमेज इंटरनेशनल स्तर तक खराब हो गई है और उसके बाप के इतने इंटरफेयर के बाद दोनों का रिश्ता खत्म हो गया और आधार फिर अकेला और तन्हा हो गया, आधार रोता रहा और अकेले कोने में बैठ कर रात भर शराब पीता रहा वो रोज नशे किसी न किसी नाले में गिर जाता था

आधार के पास अब जीने का कोई बहाना नहीं बचा था अब तो उसका बचा हुआ फेफड़ा भी जवाब देने लगा था और किडनियां तो पहले ही टाटा बोल चुकी थी उसको, बिना फेफड़े और बिना किडनियों के आधार बिना नंबर वाला कार्ड बन चुका था, अंत में उसने नम्बरों की रस्सी बना कर कम्प्यूटर में में कूद कर आत्महत्या करली ।