Friday, 20th October, 2017

किंग्स इलेवन के प्रदर्शन से नाराज़ हैं कछुए, करेंगे जंतर मंतर पर प्रदर्शन

03, May 2016 By Ritesh Sinha

मोहाली. आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब के  धीमे प्रदर्शन से सारी दुनिया के कछुए नाराज़ हो गए हैं ।और उन्होंने दिल्ली के जंतर मंतर पर इनके प्लेयर्स के गैर जिम्मेदाराना व्यवहार के खिलाफ प्रदर्शन करने का फैसला किया है। प्रदर्शन कर रहे कछुओं से हमारे रिपोर्टर की बातचीत कुछ इस प्रकार है- कछुओं के सरदार जिनकी उम्र डेविड मिलर से आठ गुना ज्यादा है, ने बताया कि सारी दुनिया के लोग हमें सबसे धीमा प्राणी मानकर, हमारा मजाक उड़ाते थे लेकिन इस दुनिया में कोई तो है जो हमसे भी ज्यादा स्लो है। इस टीम ने तो हमारा भी मजाक उड़ाया है। इतने दिनों बाद ये प्रदर्शन क्यों हो रहा है जबकि आईपीएल मैच को शुरू हुए बीस दिन से ज्यादा हो गए हैं? ऐसा पूछे जाने पर कछुओं के सरदार ने हमें बताया कि हम सब तो तुरंत घर से निकल गए थे पर आज जाकर यहाँ पहुंचे हैं।

जंतर मंतर की तरफ कदम बढ़ाते हुए
जंतर मंतर की तरफ कदम बढ़ाते हुए

एक और कछुए ने हमें बताया कि, मैं जर्मनी से 3 अप्रैल 1756 को निकला था और इंडिया में इसी सप्ताह लैंड किया, पर जब मैंने इस आईपीएल टीम के बारे में सुना तो मेरा खून खौल उठा और मैं यहाँ इस प्रदर्शन में शामिल होने आ गया।

एक जवान महिला कछुआ (उम्र 155 साल) ने फेकिंग न्यूज़ को बताया कि, वो जापान की रहने वाली है और महिलाओं को अपने अधिकारों के लिए जागरूक करने के लिए इंडिया आईं थी। लेकिन किंग्स इलेवन पंजाब ने उनका सारा प्लान गड़बड़ कर दिया। साथ ही कछुआ रानी ने मुरली विजय को कप्तान बनाने की मांग की है।

हमारे रिपोर्टर ने उस कछुए से भी बात की जिसने खरगोश को रेस में हरा दिया था। आजकल उनकी उम्र 322 वर्ष है। उसने अपना मैडल दिखाते हुए गुस्से से कहा कि, “धीरे धीरे आगे बढ़ने से केवल कछुए जीत सकते हैं, इंसान नहीं। किंग्स इलेवन पंजाब को कछुओं की नक़ल करना बंद कर देनी चाहिए, नहीं तो मैं उसे सुप्रीम कोर्ट तक लेके जाऊंगा।” वहीँ पशु प्रेमियों ने भी इन कछुओं का समर्थन किया है।

दिल्ली पुलिस ने इस प्रदर्शन को ध्यान में रखते हुए अपने सबसे तेज तर्रार अफसरों को ड्यूटी पर लगाया है। और अगर प्रदर्शन हिंसक हो जाता है तो पुलिस के जवानों को लाठीचार्ज ना करने की हिदायत दी गई है, नहीं तो कछुओं के पीठ को तो कुछ नहीं होगा पुलिस जवानों के कलाई की हड्डी अपना स्थान छोड़ देगी।