Thursday, 23rd November, 2017

झुमको की जगह कोल्डड्रिंक की बॉटल लाने पर हुआ गृहयुद्ध

04, Nov 2017 By funnytuner

आज सुबह सुबह रीवा की शांति विहार कालोनी के E4 में रहने वाले मि० राधे तिवारी के घर में अशांति के कारण पड़ोसियों की नींद में खलल हुआ. कालोनी में ही रहने वाले फेकिंग न्यूज़ के रिपोर्टर अकरम मुस्तफा मामले की तह तक जाने के लिए निकल पड़े. फिर क्या था साथ में उनके पडोसी मिसिर जी भी चिपक लिए, E4 में पहुंचने पर दोनों ने देखा की राधे जी अपराधी जैसे हाथ में कोला की दो बोतल पकडे खड़े थे,

उनकी धर्मपत्नी बसंती देवी आँखों से गंगा जमुना बहाते हुए जबान से ब्रह्मोस मिसाइल फायर कर रही थी “जिसमे राधे जी की लगभग पिछली 2 पीढ़ियों का जिक्र था, एवं उनकी कुछ पुरानी कारस्तानियों का भी जिक्र बीच बीच में आ रहा था”.1377245706wife beating her husband

बेचारे बच्चे कालू और लालू हैप्पी बर्थडे मॉम के ग्रीटिंग के साथ सहमे हुए खड़े थे ,मामला समझ में न आता देख कर इस गोलाबारी के दरम्यान अरक़म ने राधे जी से मज़ाकिया लहज़े में पूछ ही लिया: अमां मिया बात क्या है! इस बार फिर बीवी का जन्मदिन भूल गए क्या?

राधे जी ने मिमियाते हुए बताना शुरू ही किया था की बसंती देवी ने फायरिंग के अंदाज में अकरम को लताड़ते हुए बोली: आप तो चुप ही रहिये जाहिदा ने आपके भी कुछ किस्से बताये है! इनसे ज्यादा हमदर्दी न ही दिखाए तो  बेहतर रहेगा. इतना सुनते ही हमारे रिपोर्टर साहब का साइलेंट मोड़ एक्टिवेट हो गया.

मिसिर जी जो अभी तक पुरे वाकये को देख और सुन रहे थे उन्होंने मोर्चा संभाला और बसंती देवी को ‘बहन जी’ सम्बोधित करते हुए  मामला बताने पर राजी कर लिया, मामला कुछ यूँ था “करवाचौथ के समय राधे जी ने बसंती देवी को उनके जन्मदिन पर झुमके दिलाने का वादा किया था, पर आज जन्मदिन पर जब झुमके की जगह राधे जी कोला की दो बोतले गिफ्ट करने लगे तो बसंती देवी ने इसका वजह पूछी तो राधे जी कूपन कोड और कैशबैक जैसी कुछ दिलासे भरी बाते बड़बड़ाने लगे, यही से गृहयुद्ध की शुरुवात हुई”.

इधर मिसिर जी को बसंती देवी से चर्चा में व्यस्त देखकर, अकरम भाई ने राधे जी से दबी जबान  में उनका पक्ष जानने की कोशिस की तब जाके पुरे मामले का खुलासा हुआ: “हुआ यु की करवाचौथ के समय जज्बातो में राधे जी ने झुमको का वादा तो किया पर भूल गए, जब बच्चो ने मोम के जन्मदिन के एक दिन पहले ऐन वक्त पर याद दिलाया तो उनके पैरो तले कार्पेट सरक गया, तभी उन्होंने टीवी पर कोला की बोतल पे गारंटीड कैशबैक और झुमको का प्रचार देखा तो उनके दिमाग की बत्ती जल गयी, वो तत्काल २ लीटर वाली कोला की २ बोतले लेकर गिफ्ट पैक करके रख दिए और निश्चिन्त हो कर सो गए.

पर जन्मदिन की सुबह झुमको की जगह कोला की बोतले देख कर बसंती देवी का इन्टॉलरेंस लेवल इंडिया से भी ज्यादा बढ़ गया और राधे जी को सुबह सुबह उनके पुरखों की याद दिला दी गयी”.

कोला कंपनी के झुमका प्रचार और कैशबैक के दावों की असलियत जानने के लिए जब उनके PR मैनेजर ‘स्वामी टायरवाला’ से हमारे संवाददाता ने बात की तो उन्होंने सिर्फ “नियम व शर्ते लागु”  बोलकर फ़ोन काट दिया|

खबर लिखे जाने तक E4 और कॉलोनी अशांति में ही थे, राधे तिवारी और जुगनू वकील PIL में होने वाले खर्चे में मोलभाव कर रहे थे|