Thursday, 17th August, 2017

जल का टीवी प्रचार देखकर देश के बेवड़े हैं परेशान

09, Aug 2017 By khakshar

आज-कल जल का टीवी प्रचार देखकर देश के बेवड़े काफ़ी अचम्भें में हैं। कुछ दिन से टीवी दर्शक भी भौंच्चके रह गए हैं। संस्कारी आलोक नाथ मुस्कुरा कर टीवी पर बोलते हैं, “जुग-जुग जियो और ख़ुब पीयो।” ड्रीम गर्ल भी आकर बोल जाती हैं “शुद्ध पीयें।” उनकी नौ लखिया मुस्कान सिर्फ पानी पीने लिए तो नहीं होगी। मैं इसी लिए हीं पीता हुँ। लेकिन जबसे सनी लियॉन ने “जल मिनरल वॉटर” का प्रचार किया है। मेरा प्रिय पेय कुछ धुंधला सा दिखने लगा हैं। बहुत कन्फूशन है भाई। एक ही साँस में बक गए टैंकर मिश्र।

देश में 'पीने' का कल्चर उजागर करेंगे!
देश में ‘पीने’ का कल्चर उजागर करेंगे!

बगल में खड़े खंभा यादव बोले, “अरे वो जल कहाँ बोल रही हैं, वो तो कोई जाल जैसा कुछ बोल रहीं हैं। शायद कोई जाल फैला रही हैं। “क्यों अमित, उनके कोई जाल नाम से नई फिल्म आ रही क्या?” उन्होंने अपडेटेड किशोर अमित से पूछा।

अमित ने खंभा जी को एक घुड़की पिला डाली वो भी कनपुरिया स्पेशल। “ए -चाचा गुदा हैं तो घुम आओ कम्पनी-बाग। ज्यादा मगज़मारी करोगे तो यादवाइन चाची को बता देंगे। देखो तुम्हारा घरवाला सनी -लियॉन की जाल बुनता हैं। फिर कुटाते रहते…।” शुक्र मनाओ चाचा कि अभी तक बाबाजी ने कोई “स्वदेसी बोतल जल” शुरुवात नहीं की हैं। या फिर “सदी के नायक” ने कोई पानी का प्रचार नहीं किया हैं। नहीं तो चाची, तुमसे लोटा में उन्हीं का पानी भरवाती।”

खंभा जी समझ गए की अमित पर दाल नहीं गलेगी। इसलिए फिर टैंकर मिश्र को लपेटने लगे। खाभा जी टैंकर मिश्र के पुराने मित्र जो ठहरे। खंभा यादव ने टैंकर मिश्र की पोल -खोल भी कर डाली। इनका नाम टैंकर इसलिए पड़ा कि ईंधन टैंकर की तरह इनके भी तीन कम्पार्टमेंट हैं। पहला  लिक्विड ईंधन के लिए, दुजा गैस ईंधन के लिए। फिर बीच में चिल्लाए “बोल बम -खींच के दम।” तीजा टैंकर सॉलिड ईंधन के लिए हैं। “जय शंकर, हो न जाए त्रुटि।”