Thursday, 17th August, 2017

जय श्री राम का नारा बुलंद करेंगे कुछ अल्पसंख्यक

02, Aug 2017 By khakshar

“राम मंदिर की तारीख़ तो कोई योगी या स्वामी ही बताएगा”, कोर्ट ने मान लिया है। अब कोर्ट को इक्कठ्ठे तीन तलाक़ का मामला ठंडे बस्ते में पहुँचाना हैं। किसी अख़बार में या टीवी चैनल पर कोई खबर नहीं आ रही है। ऐसा लगता है तीन तलाक़ हो नहीं रहा हैं। आजकल “पाकिस्तान की बजी पूँगी”, “पटना की गलियों में गूँजी अंतरात्मा आवाज़” आदि समाचारों ने इंस्टेंट तीन तलाक़ के मुद्दे को हाशिया से बाहर कर दिया हैं। सरकार के माननीय प्रतिनिधि का तलाक़ पीड़ित महिलाओं से मिलने का कार्यक्रम भी दिखाया नहीं जा रहा हैं। कोर्ट और सरकार के बीच ठेल -ठेल का खेल भी बंद हो गया हैं।

केसरिया रक्षा सूत्र दिखाते हुए विधायक जी
केसरिया रक्षा सूत्र दिखाते हुए विधायक जी

खबर पक्की हैं कि तीन तलाक़ वाला मामला फिर से ख़बर बनेगा। विशेषज्ञ बताते हैं कि बिहार के एक विधायक ने आगे की स्क्रिप्ट लिख डाली है। पटना में विधान सभा में जब उन्होंने “जय श्री राम” का नारा लगाया तो कई परिवारों को तलाक़ की आग में झोंक डाला। एक ईमाम ने मलए साहब के ख़िलाफ़ फ़तवा जारी कर दिया हैं। विधायक जी अब अपने धर्म के नहीं रहें।

इस ख़बर के बाद देश भर के कुछ ऐय्याश- ठरकियो की ख़ुशी की ख़बरें आ रहीं हैं।

मुरादाबाद- साठ साल के एक नवाब साहब, जिनकी चार बीवियों के अभी तीसरी सेट चल रही हैं काफ़ी उत्साहित  बताये जाते हैं। उन्होंने जिम के भी चक्कर लगा लिए हैं। हमारे पत्रकार @khakshar को फुसफुसा कर बोले “जय श्री राम” इमाम को ही सुनाना हैं। वो फ़तवा जारी करेगा और मुझे धर्म से अलग कर देगा। एक साथ चारों बेगमों से छुटकारा मिलेगा। बैठे- बिठाये बिन ट्रिपल तलाक़ चारों से छुटकारा मिल जायेगा। तलाक़ हो जाने के ईमाम के सामने नाक रगड़ के माफ़ी माँग लुँगा। जरूरत पड़ी तो एक-आध आयत भी पढ़ दुँगा। फ़िर अभी  साठ का पाठा ही हुँ…मौजा ही मौजा

इधर बाहर खड़ा फ़क़ीर गए रहा था-

मुश्क़ औ इश्क़  का  फ़लसफ़ा  कमज़ोर-इ-नज़र;

काज़ियो का क्या खाकसार जो खोजे  दाग-इ-बदर

Topics:#Triple Talaq