Thursday, 23rd November, 2017

एक्सक्लूसिव कवरेज- इटालियन प्रधान मंत्री ने खाया पिज़्ज़ा मंचूरियन

01, Nov 2017 By khakshar

नई दिल्ली इटालियन प्रधान मंत्री आज कल भारत के दौरे पर हैं। भारत सरकार ने आवभगत में कोई कमी नहीं दिखाई हैं। पर हमारे प्रधान मंत्री के चेहरे पर एक ख़ामोशी दिखी। सूत्र  बताते हैं कि उन्हें विदेश की हवा याद आ गई। आखिर GST को लागू कराने के लिए इतनी कुर्बानी तो देनी पड़ेगी। क्या पता प्रधान मंत्री दौरे पर निकले और वित्त मंत्री कोई नया सेस न लगा दे।

  इटालियन प्रधान मंत्री के लिए बनाया गया पिज़्ज़ा -मंचूरियन चेतावनी - इसे खाने वाला कम से कम दो बार आह बोलेगा
 इटालियन प्रधान मंत्री के लिए बनाया गया पिज़्ज़ा -मंचूरियन: चेतावनी – इसे खाने वाला कम से कम दो बार आह बोलेगा

प्रधान मंत्री के बुझे चेहरे का एक अधिकारी ने दूसरा कारण भी बताया। नाम ज़ाहिर न होने पर बोले, “हमारे प्रधान मंत्री की चिंता वाजिब हैं। मोदी जी सौगात में दो इटालियन नाविकों की भारत-वापसी की उम्मीद लगा बैठे थे। इटली के प्रधानमंत्री दो किताबें भेंट में लाये हैं। व्यापार में भारत को नुकसान ही होने की उम्मीद हैं ,सो अलग।”

जानकार बताते  है कि व्यापार का संतुलन तो हमेशा से इटली के पक्ष में रहा हैं। उनके यहाँ का एक साधारण नागरिक, हमारे देश में माँ का दर्ज़ा पा लेता हैं। पिज़्ज़ा, पास्ता, स्पघेटी तो अब भारतीय नाश्ता हैं। तीन साल के बच्चे फ़िज़्ज़ा का नाम सुनते हीं झुमने लगते हैं। छोटे कस्बों और गाँवों में भी छोले पिज़्ज़ा,पापड़ी  पिज़्ज़ा भी बिकने लगा हैं।

असल नाम गुच्ची हैं या गुक्की, इस पर पिछले तीन वर्षों में सतरह लड़कों का सर फुट चुका हैं। मोरेस्ची के जूते ने मोची का उच्चारण हीं बदल दिया हैं। पिछले साल लखनऊ के पुराने मशहूर दर्ज़ी “अरमान अंसारी” ने अपने दुकान का नाम बदल दिया। दुकान का नाम अब “अरमानी अनसाल्डी” हो गया हैं। उनके दोस्तों ने बताया की अरमानी तो चलेगा पर अनसाल्डी तो गाड़ी का नाम हैं। अंसारी दर्ज़ी फिर भी नहीं माने, बोले इतालियन हैं तो।

इस पोस्ट के विरोध में कुछ भक्त जरूर चिलायेंगे। हमने भारतीय संस्कारो को इटली के आक्रमण से बचा लिया  हैं। अब “इटालियन सैलून” की संख्या कम होते जा रही हैं। ईंट पे बैठ कर बाल कटाने को “इटालियन सैलून” अब बचे कहाँ हैं?