Monday, 20th November, 2017

हूरों की संख्या मे भारी कटौती, रूहानी सूत्रों ने दी ख़बर

24, Apr 2017 By bapuji

बरेली. फेकिंग न्यूज़ की रूहानी डिवीजन ने अभी हाल मे ही बदलते वैश्विक समीकरण पर जन्नत और जहन्नुम का हाल-चाल जानने का प्रयास किया| इस करिश्माई इंटरव्यू के लिए हमारे संवाददाता ने रूहानी ताक़त के लिए मशहूर हकीम रहमानी की मदद ली| पाठको को बता दे कि हकीम साहब कई ख़तरनाक जिन्नात को अपने घर पर शीशे की बोतलो मे बंद रखते है और उन्ही की मदद से उपर का हाल-चाल लेते रहते है|

इस इंटरव्यू के लिए हकीम साहब और हमारा संवाददाता, हकीम जी के घर के तहख़ाने मे पहुचते है और फिर हकीम साहब एक इत्र की बोतल मे बंद एक जालिम जिन्न को आज़ाद करते है जो हाल-फिलहाल में ही उपर की सैर कर के आया था| हवा के झोके चलने लगे| और जिन्न निकलते ही आदत से मजबूत हो कर ज़ोर-ज़ोर से हंसा और अपने आका को सलाम किया| फिर घबराते हुए हमारे संवाददाता से अपने सवाल पूछने को कहा:

ओसमा बिन लादेन जैसे वीरों की माँग 72 हूरों से कई ज़्यादा होती हैं जो की हम नकार नही सकते
ओसमा बिन लादेन जैसे वीरों की माँग 72 हूरों से कई ज़्यादा होती हैं जो की हम नकार नही सकते

फेकिंग न्यूज़ (डरते हुए): सर, जन्नत के क्या हालात है और कितने लोग है वहाँ पर आजकल?

जिन्न (गुस्से में): लाहोल विला कूवत, आज कल तो जन्नत मे जगह ही नही है| जब से इराक़ और सीरिया मे लड़ाई शुरू हुई है तब से जेहादी भर-भर के आ रहे है |  एक अदने से  जेहादी को दरवाजे पर पहुचते ही 72 हूर दे दी जाती है और फिर ये 73 लोग जन्नत मे दाखिल हो जाते है| नतीजा है कि पैर रखने की भी जगह नही है, मैं खुद कल बाहर सड़क पर सोया|

फेकिंग न्यूज़: सर, एक जेहादी के लिए 72 हूर काफ़ी अधिक नही लगते आपको?

जिन्न: तूने बिल्कुल सही फरमाया नामाकूल, इसी वजह से यहा पर हूरों की भयंकर कमी हो गयी है| हूर प्रोडक्शन की सारी इकाई अपने पूरी क्षमता से चल रही है लेकिन तब भी कमी है| इसके अलावा हुरो की शकल मिलने की भी शिकायत आई है| अब रोज लाखो हूर बन रही है तो ये सब तो होगा ही| इसी को ले के परसो कुछ जेहादियो मे बम बाजी हो गयी और कई लोग घायल भी हो गये | इसीलिए अब नये क़ानून के हिसाब से अब सिर्फ़ 2 हूर दी जाएँगी|

अगला सवाल पूछने से पहले ही अचानक जिन्न का रूहानी मोबाइल बजने लगा| जिन्न ने बताया क़ी, “उपर किसी हूर को लेकर लड़ाई हो गयी है और उसे जाना पड़ेगा|” सलाम कहकर हवा के झोके के साथ जिन्न गायब हो गया|

फेकिंग न्यूज़, रूहानी ताक़त के लिए मशहूर हकीम रहमानी को इस इंटरव्यू के लिए धन्यवाद देता है| अब देखना है कि दो हुरो वाले इस नये क़ानून के बाद जेहादियो की संख्या मे कोई गिरावट आती है या नही|