Saturday, 25th November, 2017

हे 15 अगस्त

16, Aug 2013 By Om Prakash Agrawal

हे 15 अगस्त! तू ही बता आज़ादी है क्या ?

जहाँ भ्रस्टाचार है सबसे आगे

नेता घोटालों के पीछे भागे

महंगाई सर चढ़ कर बोल रहा है

शोषण और कुपोषण से हर क्षेत्र डोल रहा है

कहीं तू 6 अगस्त और 9 अगस्त की योग तो नही हो

हिरोशिमा और नागासाकी की चोट तो नही हो

भ्रस्टाचार और घोटालो का नुक्लेअर बम

जिसे नाटो ने नही नेताओं ने छोड़े हैं

करोड़ों जनता के अरमान को तोड़े हैं

कराहती हुई ज़िन्दगी

बिलबिलाती हुई गरीबी

चारो ओर दिख रहा है

हर आदमी त्रस्त

हर व्यक्ति पस्त

क्या यही है आज का 15 अगस्त ?

नही चाहिए ऐसी ज़िन्दगी

आज़ादी चाहिए भ्रस्टाचार से

आज़ादी चाहिए घोटालों से

आज़ादी चाहिए महंगाई से

आज़ादी चाहिए कुपोषण से

आज़ादी चाहिए शोषण से

आज़ादी चाहिए अशिक्षा से

ताकी न हो कोई त्रस्त

न हो कोई पस्त

तब हम मनाएंगे ख़ुशी ख़ुशी 15 अगस्त !

Topics:#India