Thursday, 19th October, 2017

हे कार्ल मार्क्स कह गए लेनिन से...

22, Jan 2016 By Pushpendra Singh

कार्ल मार्क्स कह गए लेनिन से, ऐसा युग भी आएगा…

दलितों के कंधो पे रख के… दलितों के कंधो पे रख के… कम्युनिस्ट बन्दूक चलाएगा

हे जी रे रे…

स्टालिन ने पूंछा– “कामरेड, तो क्या दास कैपिटल को कोई भी नहीं पूजेगा” तो मार्क्स बोले–

लेनिन भी यहाँ कार्ल मार्क्स भी यहाँ
लेनिन भी यहाँ कार्ल मार्क्स भी यहाँ

सेक्युलर भी होगा, लिबरल भी होगा सेक्युलर भी होगा, लिबरल भी होगा परन्तु क्रान्ति नहीं होगी

बात बात में देश-धर्म को बात बात में देश-धर्म को मीडिया नीचा दिखायेगा

हे कार्ल मार्क्स कह गए लेनिन से…

फेसबुक और ट्विटर दोनों पे होगी निसदिन खिंचा तानी, खिंचा तानी पर दक्षिणपंथी पड़ेंगे भारी, पड़ेंगे भारी जिसका न हो नाम सुना कभी, वो भी अवार्ड लौटाएगा|

दलितों के कंधो पे रख के… दलितों के कंधो पे रख के… कम्युनिस्ट बन्दूक चलाएगा

हे कार्ल मार्क्स कह गए लेनिन से….

सुनो लेनिन भारत में जाति के भेद अनेक होंगे दलित होंगे हमारे प्रिय और दुश्मन सारे सवर्ण होंगे नारा देकर जय भीम-जय भीम नारा देकर जय भीम-जय भीम… कम्युनिस्ट मलाई खायेगा

दलितों के कंधो पे रख के… दलितों के कंधो पे रख के… कम्युनिस्ट बन्दूक चलाएगा हे कार्ल मार्क्स कह गए लेनिन से…

दलितों का शोषण होगा पर कोई न हो सुनने वाला, सुनने वाला मौत का तमाशा बनाकर, राजनीती करे झोला वाला, झोला वाला बीज ऐसा ही क्रान्ति का बीज ऐसा ही क्रान्ति का फिर उसमे बोया जाएगा

दलितों के कंधो पे रख के… दलितों के कंधो पे रख के… कम्युनिस्ट बन्दूक चलाएगा

This is a parody of famous bhajan from movie Gopi sung by Mahendra Kapoor. I made it in the context of Dalit movement hijacked by radical left and politicization of casteism for their ideological interest.