Wednesday, 13th December, 2017

फ्रांसीसी राष्ट्रपति की आतंकियों को ‘धमकी’ पर सहिष्णुतावादी नाराज, मोदी के खिलाफ बढ़ा गुस्सा

15, Nov 2015 By A. Jayjeet

नई दिल्ली/पेरिस। पेरिस पर आतंकी हमले के बाद फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद सहिष्णुतावादियों के निशाने पर आ गए हैं। सहिष्णुतावादी, ओलांद के उस बयान की आलोचना कर रहे हैं जिसमें उन्होंने आतंकियों को बेरहमी से कुचलने की धमकी दी है। उनके इस बयान के बाद भारत में मोदी सरकार के खिलाफ भी गुस्सा बढ़ गया है। सहिष्णुवादियों ने बहनों से मार्मिक अपील की है कि वे भाई-दूज के अवसर पर मिले गिफ्ट अपने-अपने भाइयों को लौटा दें।

एक सहिष्णुता समर्थक ने ओलांद के बयान पर कहा, “आतंकियों के खिलाफ इस तरह की भाषा साफ संकेत है कि भारत में जो असहिष्णुता का माहौल है, वह कैसे धीरे-धीरे पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले रहा है। मोदी ने अप्रैल में फ्रांस की यात्रा की थी। उसका असर अब देखने को मिल रहा है।” इस सहिष्णुता समर्थक ने आशंका जताई है कि आने वाले दिनों में ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन भी कहीं ओलांद की भाषा नहीं बोलने लगे।

एक अन्य सहिष्णुता समर्थक ने कहा, ‘ऐसे आतंकी हमलों के खिलाफ कैंडल मार्च निकाले जाने की स्वस्थ परंपरा रही है। इसका आतंकियों पर सकारात्मक असर भी होता है। लेकिन अगर हम आतंकियों की भाषा ही बोलने लगेंगे तो फिर हममें और उनमें क्या फर्क रह जाएगा? ऐसे में तो पूरी दुनिया रहने लायक नहीं रहेगी।’

भाई-दूज पर मिले गिफ्ट लौटाने की मार्मिक अपील :

इस बीच, फ्रांस के राष्ट्रपति के असहिष्णु बयान पर भारत में मोदी सरकार के खिलाफ लोगों में गुस्सा बढ़ता जा रहा है। एनडीटीवी चैनल की एक रिपोर्ट के अनुसार सारे अवार्ड लौटाने के बाद अब सहिष्णुता के समर्थकों ने उन बहनों से अपने-अपने भाइयों को गिफ्ट लौटाने की मार्मिक अपील की है जिन्होंने भाई-दूज पर अपने भाइयों से जबरदस्ती हासिल कर लिए थे। अपील में कहा गया, “सारी बहनें अगर अपने भाइयों को गिफ्ट लौटा देंगी तो इससे मोदी सरकार दबाव में आएगी और पूरे देश में अमन और शांति का माहौल बन सकेगा।”