Monday, 11th December, 2017

Demonetization के एक साल होने पर विरोध करने राहुल गाँधी पहुंचे ATM: दिल्ली की धुंध में किसी ने नहीं पहचाना

12, Nov 2017 By Gaurav Mittal

विमुद्रीकरण (Demonetization) को आज एक साल हो गया और पिछले एक साल में विपक्ष ने इसको लेके खूब विरोध किया और छाती पीटी| हालात ये है कि एक के बाद एक चुनाव हारने पर भी विपक्ष का ये रोना-धोना अभी तक चल रहा है|rahul gandhi

एक साल पहले राहुल गाँधी ने सरकार के विमुद्रीकरण के विरोध में SBI बैंक की लाइन में लग के 4000 रुपये बदलवाए थे| आज फिर उसी अंदाज़ में राहुल गाँधी उसी SBI बैंक के ATM में पहुँच गए और खड़े हो गए| उन्होंने सोचा था उन्हें देख के तमाशा होगा लेकिन किसी ने उनकी ओर मुहँ उठा के भी नहीं देखा क्योंकि आजकल दिल्ली में प्रदुषण की वजाह से इतना घना धुआँ फैला है कि किसी को पहचान पाना मुश्किल है|

राहुल वहाँ 1 घंटा खड़े रहे लेकिन ना लोग इक्कट्ठा हुए, ना किसी ने उनके साथ सेल्फी खींची| ना मीडिया आया और ना ही किसी ने ट्वीट किया| जब लगा कि दाँव उल्टा पड़ गया है तो राहुल चुपके से वहाँ से खिसक लिए| लेकिन ऐसी खबरे दबाये कहाँ दबती है| कुछ गुप्तचरों ने इसका पता लगा लिया और उन्होंने खबर को दिल्ली के धुँए की तराह फैला दिया| कांग्रेस और राहुल गाँधी ने पहले तो इसको झूठ बताया लेकिन जब ATM के अंदर के कैमरे को खंगाला गया तो दूध का दूध और पानी का पानी हो गया|

बाद में जब हमने ATM के गार्ड से पूछा तो उसने बताया, “हमे लगा कोई दिल्ली की धुंध में खो गया है और यहाँ इसलिए खड़ा है क्योंकि यहाँ AC में साँस ले पा रहा है| अगर पता होता कि वो राहुल गाँधी है तो हम उनसे पूछते कि पिछले साल जो 4000 निकाले थे वो कहाँ खर्च किये?”

इस घटनाकर्म पर टिप्पणी करते हुए केजरीवाल ने कहा, “ये धुआँ  विमुद्रीकरण में रद्दी हुए नोटों को जलाने से हुआ है, सरकार ने सारे नोट एक साल बाद दिल्ली में जला दिए है, ये मेरे खिलाफ साजिश है|”

खैर राहुल गाँधी का ये स्टंट भी फ़ैल हो गया और दिल्ली का प्रदुषण भी मोदी जी के लिए भाग्यशाली साबित हुआ|