Monday, 25th September, 2017

साइकिल चुनाव चिन्ह न मिलने पर चंद्रबाबू से उधार लेंगे साईकिल

14, Jan 2017 By Vinay Bhatt

जो लोग राजनीति को करीब से समझते हैं उनसे अमर सिंह की सकंट मोचन की भूमिका छिपी नहीं है। कैसे उन्होंने कांग्रेस की सरकार बचाई थी। अब यही अमर सिंह एक बार फिर मुलायम के तारन हार बनने वाले हैं। दरअसल यूपी चुनाव में अब एक महीने से भी कम समय बचा है और चुनाव आयोग ने समाजवादी पार्टी के दोनों गुटों मे से किसी को भी चुनाव चिन्ह साईकिल नहीं दिया है जिसका असर दोनों के चुनावी परिणाम पर पड़ना तय है।

साईकिल पर क़ब्ज़ा कर बैठे जूनियर यादव
साईकिल पर क़ब्ज़ा कर बैठे जूनियर यादव

बहुत सम्भव है कि साईकिल को आयोग जब्त कर ले। अखिलेश यादव तो युवा हैं और वो साइकिल की जगह मोटर साइकिल से भी काम चला लेंगे लेकिन मुलायम सिंह यादव ने न जाने कितनी बार इस साईकल का पन्चर लगाया होगा, हवा भरी होगी, चेन चढ़ाई होगी। मुलायम ने इसी पर कई बार लखनऊ तक सत्ता की सवारी की है। हां तो अब नेता जी की इसी विकट समस्या का हल ढूंढ निकाला है अमर सिंह ने उन्होने नेताजी को वचन दिया है कि आयोग द्वारा जब्त होने पर भी वो नेताजी को साईकिल सिम्बल पर ही चुनाव लड़वायेगें और जब खुद महाजुगाड़ी अमर सिंह ने ये वादा किया है तो होनी को कौन टाल सकता है। खबर है कि अमर सिंह ने यूपी चुनाव लड़ने के लिए आन्ध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चन्द्र बाबू नायडू से तेलगू देशम पार्टी के चुनाव चिन्ह साईकिल उधार मांगी है।

पूछने पर अमर सिंह ने बताया कि जैसे हम दोस्त यारों से साइकिल बाईक वगैरह मागं के अपना काम चला लेते हैं वैसे ही हम चुनाव तक के लिए सीएम गारू एन चन्द्र बाबू नायडू से उनकी साइकिल उधार मागं रहे हैं जब अपना काम निकल जाएगा तो फिर वापस कर देगें। फिर अमर सिंह ने अपने चिर परिचित शायराना अंदाज में कहा अब क्या कर लेगा आयोग जब चन्द्र बाबू का हो सहयोग। चन्द्र बाबू ने भी खबर की पुष्टि करते हुए कहा कि पुराने सम्बन्धो की वजह से हमने भी मना नहीं किया लेकिन टूट फूट की जिम्मेदारी अमर सिंह की ही होगी।