Friday, 22nd September, 2017

कांग्रेस सांसद ने VIP ट्रीटमेंट लेने से किया इनकार: पार्टी ने कहा इन जैसे नेताओं के कारण ही हम चुनाव हार रहे हैं

09, Jul 2016 By Ritesh Sinha

दिल्ली. जैसे ही कांग्रेस के बड़े नेताओं को ये पता चला कि उनकी पार्टी के राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने एयरपोर्ट में वीआईपी ट्रीटमेंट लेने से मना कर दिया है, सभी नेता आग बगुला हो गए, सभी ने इसे अपनी परंपरा के विरुद्ध बताते हुए इसकी कड़ी निंदा की और उस सांसद को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया। कांग्रेस के बड़े नेताओं का मानना है कि इन जैसे नेताओं की वजह से हम लगातार चुनाव हार रहे हैं।

गौरतलब है कि कांग्रेस से राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने दिल्ली  एयरपोर्ट पर वीआईपी ट्रीटमेंट लेने से ये कहते हुए इनकार कर दिया था कि मुझे इसकी आवश्यकता नहीं है, टर्मिनल तक जाने के लिए मुझे भी अन्य यात्रियों के साथ बस में बैठाया जाए।

Congress core group meeting
नेता के भविष्य का फ़ैसला लेने के हुए आपातकालीन बैठक बुलाई गई

यही बात कांग्रेस के दूसरे नेताओं को पसंद नहीं आई, कांग्रेस के एक बड़े नेता दिग्विजय सिंह ने बताया कि, “वीआईपी ट्रीटमेंट लेना हमारे खून में शामिल है, राहुल बाबा हमेशा हमें इसके लिए प्रेरित करते रहते हैं, वीआईपी ट्रीटमेंट लेने से पता चलता है कि नेता कितना दमदार है, लेकिन अपनी ही पार्टी के लोग जब ऐसी हरकत करने लगेंगे तो हम जनता को क्या मुंह दिखाएँगे। इसी वजह से हम चुनाव हार रहे हैं, सर्जरी करने की बात तो टाल दी गई, अब वीआईपी ट्रीटमेंट लेने से भी इनकार किया जा रहा है, ये सब हमारी पार्टी के हित में नहीं है।” नेताजी ने तर्क दिया

वहीँ कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता संजय झा ने बताया कि, “हमने दस बार चिंतन बैठक करके देख लिया, कई कमेटियां बना कर देख लीं, लेकिन हम अपनी हार की वजह नहीं तलाश पाए। राहुल जी कई देशों की धड़ाधड़ यात्रा कर रहे हैं ताकि हमारे चुनाव हारने की कारणों का पता लगा सकें, लेकिन आज मुझे पता चल गया है कि हम चुनाव क्यों हार रहे हैं? इन जैसे नेताओं के कारण जो एअरपोर्ट पर वीआईपी ट्रीटमेंट लेने से इनकार कर देते हैं। ये सब हमारी पार्टी के विचारधारा के खिलाफ है, अगर इनके खिलाफ सख्त कार्रवाई नहीं की गई तो ये हमारी पार्टी को ले डूबेंगे।”, संजय झा ने अपनी बात को ख़तम किया।

उधर, उस सांसद ने भी अपनी भूल स्वीकार कर ली है, और पार्टी हाई-कमान को अपना माफीनामा भेज दिया है। साथ ही उसने पार्टी को भरोसा दिलाया है कि ऐसी गलती वह दुबारा नहीं करेगा। एक दूसरी खबर में, अपने बयान में आरएसएस का नाम नहीं लेने के जुर्म में संजय झा को भी कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया गया है।