Sunday, 19th November, 2017

बिजली की लगातार कटौती के कारण मोबाइल फ़ोन नहीं हो पाये चार्ज, IIN के सभी बच्चों की परीक्षाएं रद्द

10, May 2015 By Pagla Ghoda

ओडिशा: ब्रम्हापुर सिल्क सिटी के IIN छात्रों और उनके माता पिताओं को तब एक बहुत बड़ा झटका लगा जब IIN की गर्मियों की परीक्षाएं अचनाक रद्द कर दी गयीं। पिछले कुछ दिनों से लगातार हो रही बिजली की कटौती के कारण छात्र बार बार मोबाइल फ़ोन चार्ज नहीं कर पा रहे थे जिस कारण गणित, भूगोल और बाइक मेकिंग की परीक्षाओं को बीच में ही रोक देना पड़ा। इस फैसले के तुरंत बाद IIN के परीक्षा विभाग ने सभी परीक्षाएं अनिश्चित काल तक स्थगित करने का निर्णय लिया।

एक IIN छात्र के पिता बिस्वजीत बिस्वाल ने मीडिया से बात करते हुए और जानकारी दी:

“हमारा बेटा होलेश IIN ओडिशा से हार्ट बाईपास सर्जरी और एफिशिएंट भेजिटेबल कटिंग का मिक्स्ड कोर्स कर रहा है, क्योंकि दोनों ही फील्ड्स में चाक़ू छुरी का खूब इस्तेमाल रहता है। भेजिटेबल कटिंग सीख के अपनी मम्मी का रसोई का बर्डन शेयर करेगा और हार्ट बाईपास सर्जरी सीख के अपने अंकल का हार्ट का ऑपरेशन फ्री में कर देगा। ऐसा सोच के हमने इसका IIN में एडमिशन करवाया, लेकिन देखिये कैसे पूरा परीक्षा ही रद्द कर दिया इन लोगो ने। हाई स्पीड डाउनलोड चाहिए करके हम लोग ने इतना महंगा इंटरनेट का प्लान भी ले लिया है। अब दो दो हज़ार रूपये के फीस हर महीना भरने के बाद भी पढाई लिखाई का ये हाल है तो क्या करें।”

ज्ञान की असली दुनिया आइआइएन को ख़तरे में डाला पावरकट ने
ज्ञान की असली दुनिया आइआइएन को ख़तरे में डाला पावरकट ने

IIN ओडिशा की एक और छात्रा अंकिता ने भी मीडिया को अपनी मुश्किलों के बारे में बताया: “फ़ोन में भ्हाट्सऐप भी है, ट्विटर भी है , फेसबुक भी है, IIN की भूक्स भी हैं। घर में टैक्सी भूक किसी को भी करनी है तो मेरे फ़ोन से ही होती है, कोई भिजली का भील भरना हो तो वो भी मेरे फ़ोन के मोबाइल मनी से भरा जाता है। अब फ़ोन चार्ज रहे तो रहे कैसे? मेरे स्टडीज पे बुरा असर पड़ रहा है। ” – अंकिता ने उलटे एमोट-आइकॉन जैसा मुहं बनाया।

अभी अभी IIN से निष्कासित किये गए छात्र सुप्रसन्ना ने कुछ चौंका देने वाले तथ्यों को उजागर किया: “मेरी गर्लफ्रेंड ने परसों जब मुझसे फेसबुक और ट्विटर पे खुलेआम ब्रेकअप किया उस टाइम मेरे फ़ोन पे मेरी बोइंग 747 डिज़ाइन की परीक्षा चल रही थी। जैसे ही मुझे फ़ोन में बैकग्राउंड नोटिफिकेशन दिखे मैं परीक्षा छोड़ के भागा। परीक्षा का इंविजिलेटर मुझे व्हाट्सऐप मैसेज भेजता रहा, पर उस समय किसी को ध्यान कहाँ रहता है।

गर्लफ्रेंड को मना के समझा के जब मैं घर लौटा तो देखा बिजली गुल और फ़ोन डिस्चार्ज। बाद में मुझे इंविजिलेटर से बदतमीज़ी और परीक्षा के बायकाट के आरोप में IIN ओडिशा से निकाल दिया गया। वह भले ही जीत गए हों, पर मैं अभी हारा नहीं हूँ। अब मैं जोधपुर जाके IIN राजस्थान में एडमिशन ले लूँगा।” – सुप्रसन्ना ने एक नए विश्वास के साथ “IIN … आई एम फ्रॉम IIN” वाला गीत गुनगुनाया।

हालाँकि IIN मैनेजमेंट की ओर से इस समस्या का कोई हल अभी तक सामने नहीं आया है, पर कुछ जागरूक पेरेंट्स के एक ग्रुप ने एक बड़ा जनरेटर लगवा कर एक बड़े परीक्षा हॉल की व्यवस्था करने की मुहीम चलाई है जिससे घर पे परीक्षा देने वाले छात्र अब बिना बिजली गुल होने की परवाह किया आराम से यहाँ आकर अपनी परीक्षा दे सकेंगे। इस हॉल को स्पांसर करने वाले NGO ने परीक्षा हॉल के बाहर मुफ्त में कुछ इस प्रकार की पुस्तकें वितरित करने का भी प्रबंध किया है जिससे बच्चों का धार्मिक विकास भी हो सके।