Wednesday, 26th July, 2017

भारत में हैं सबसे अधिक अर्थशास्त्री: यूनेस्को

09, Nov 2016 By bapuji

न्यूयॉर्क. भारत की जनता को अक्सर अपनी अचूक जानकारी से चौका देने वाली संस्था यूनेस्को ने अबकी बार ये घोषणा की है कि भारत में जितने अर्थशास्त्री हैं उतने पूरी दुनिया में भी नही हैं और पूरा देश आर्थिक एक्सपर्ट्स से भरा पड़ा है| घोषणा के बाद सभी फेसबूकिए अर्थशास्त्रियों ने फ़ेसबुक पर एक दूसरे को मुबारकबाद दी| कुछ साल पहले यूनेस्को ने ही जानकारी दी थी कि नासा के 99.99 प्रतिशत वैज्ञानिक भारतीय हैं और हमारा राष्ट्रगान दुनिया का सबसे अच्छा राष्ट्रगान घोषित हुआ है|

भारत के अर्थ-शास्त्री अपनी अपनी राय देने के लिए तैनात
भारत के अर्थ-शास्त्री जिनकी भारत में कोई वॅल्यू नहीं हैं

यूनेस्को ने इस बात को साबित करने के लिए एक मैप भी दिखाया| उपग्रह से प्राप्त इस चित्र के अनुसार अभी हाल में ही देश में आर्थिक मामलो के जानकारो की  संख्या में जबरदस्त इज़ाफा हुआ है| इस मैप के अनुसार देश में अर्थशास्त्रियो की संख्या ने दीवाली की रोशनी वाले नासा के मैप को भी पीछे छोड़ दिया है| फेकिंग न्यूज़ के संवाददाता से बातचीत करते हुए UNESCO के प्रवक्ता ने कहा, “भारत मे हर तरह के ज्ञानी मौजूद हैं, अभी सर्जिकल स्ट्राइक के बाद वहाँ सामरिक और युध के मामलो के जानकार बढ़ गये थे और नोट बंदी के बाद तो हद हो गयी, यहा का तो बच्चा-बच्चा पी.एच.डी है| अर्थशास्त्र का नोबेल तो इस बार इन्ही में से किसी को मिलेगा|” प्रधानमंत्री ने भी ट्वीट कर के लोगो को बधाई दी|

इस घोषणा के बाद चीन घबरा गया है| चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता भांग सूंग ली ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस मे कहा, “ये भारत वाले सारी नौकरी खा जाते हैं एक तो वहाँ थोक के भाव में इंजिनियर भरे पड़े थे और अब ये आर्थिक मामलों के जानकार भी रातो रात पैदा हो गये| जितने लोग, उतनी तरह की जानकारी! इनकी फ़ेसबुक वाल को देख के हमारे स्कॉलर्स को पसीना आ गया| और इसी वजह से हमारी अर्थव्यवस्था की हालत खराब है| लगता है अब भारत को विश्व गुरु मानना ही पड़ेगा| सभी चीनी भाइयो से आग्रह है कि वो अपने भारतीय दोस्तो से अर्थव्यवस्था का कुछ ज्ञान ले|”