Friday, 15th December, 2017

अयोध्या विवाद सुलझाने में केजरीवाल की बड़ी पहल, दिल्ली में राम लला को २ BHK फ्लैट देने की पेशकश

16, Apr 2016 By Pushpendra Singh

नई दिल्ली. आज राम नवमी के दिन दिल्ली के चर्चित मुख्यमंत्री श्री अरविन्द केजरीवाल ने राम जन्मभूमि के विवाद को सुलझाने की कड़ी में एक अहम प्रयास किया है| उन्होंने कहा यदि राम जन्मभूमि न्यास चाहे तो वो दिल्ली में राम लला को रिवर फेसिंग 2BHK फ्लैट देने को तैयार है| उन्होंने कहा की वे बहुत व्यथित होते है जब भी राम लला को तिरपाल में बैठा देखते है|

सेक्युलर केजरीवाल से राम-लला की यह हालत देखी नही गयी
सेक्युलर केजरीवाल से राम-लला की यह हालत देखी नही गयी

भाजपा ने कार सेवको की भावनाओ का केवल सरकार बनाने के लिए ही इस्तेमाल किया है| पर वो साथ में चाहते है की देश में सौहार्द का माहौल भी बना रहे और ये तभी संभव है जब हिन्दू और मुसलमान दोनों की भावनाओ का ख्याल रखा जाये| इसलिए इस समस्या का हल निकालने के लिए उन्होंने कहा है की यदि अयोध्या में राम लला के लिए जगह नहीं है तो वे दिल्ली में रहे, इसके लिए दिल्ली सरकार पूरा इंतज़ाम करेगी और बिजली एवं पानी का बिल भी माफ़ रखेगी|

गौरतलब है कुछ दिन पहले श्री केजरीवाल FTII को दिल्ली में बनाने की पेशकश भी कर चुके है| वे मराठवाड़ा में पानी की सहायता पहुंचाने को लेकर भी सुर्खियों में बने हुए थे| इस पहल को भी उनकी राष्ट्रीय नेता बनने की दिशा में बड़ा कदम माना जा रहा है|

वही दूसरी तरफ सरकार के ढीले रवैये और कोर्ट में लम्बे समय से चल रहे मुक़दमे से हताश विश्व हिन्दू परिषद ने भी इस फैसले का स्वागत किया है| उनका मानना है की राम लला तिरपाल में रहे उससे तो बेहतर ही है की उन्हें एक 2BHK फ्लैट मिल जाए|

राम मंदिर को लेकर बनी हुई विडम्बना को व्यक्त करते हुए विहिप अध्यक्ष श्री तोगड़िया ने कहा है, “अब और हमसे राम लला की दुर्दशा नहीं देखी जाती और कोर्ट का कोई भरोसा नहीं की वो कब तक इस मामले को खीचेगी| यदि भाजपा सरकार में रहकर भी ये काम नहीं कर पा रही तो हमें आम आदमी पार्टी से सहायता लेने में कोई झिझक नहीं”|

जहां AIMIM ने इस फैसले का स्वागत किया है तो वही भारतीय जनता पार्टी ने इसे राजनैतिक करार देते हुए उनकी नीयत पर प्रश्न चिन्ह लगाया है| भाजपा ने इस प्रस्ताव की निंदा करते हुए कहा की एक तरफ तो मुख्यमंत्री खुद 5BHK बंगलो में रहते है और राम लला को केवल 2BHK ऑफर करते है| ये भगवान् राम की प्रतिष्ठा का अपमान है|

साथ ही कांग्रेस ने भी इस निर्णय की निंदा करते हुए है की कर-दाता के पैसो पर एक काल्पनिक व्यक्ति को फ्लैट देना कहा तक उचित है| पाठको को विदित हो की कांग्रेस की UPA सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दायर कर कहा था की भगवान् राम एक काल्पनिक पात्र है और उनके अस्तित्व के कोई प्रमाण नहीं है|