Sunday, 21st January, 2018

अपने यूरोप टूर के बीचों बीच गरीब उजड़े किसानों को सरप्राइज़ विज़िट देने जायेंगे राहुल गांधी

30, Dec 2015 By Pagla Ghoda

नई दिल्ली: यूरोप के अपने टूर की शुरुआत करने के लिए अपने प्राइवेट जेट में बैठने से पहले कांग्रेस के सबसे वरिष्ठ नेता श्री राहुल गांधी ने देशवासियों को दीपावली एवं नव वर्ष की शुभकामनाएं दी| राहुल ने बताया के वह कुछ दिन अब यूरोप खासकर इटली में अपने पुश्तैनी ज़मींने देखने भी जायेंगे|

Rahul Gandhi as Santa Claus
किसानों के सीक्रेट सांता बनेंगे राहुल गाँधी जी| मेरी क्रिस्मस!

राहुल बाबा बोले, “आज सुबह जब मैं उठा तो मैंने देखा के रात हो चुकी थी| और मुझे याद आया के देश में काफी करप्शन हो चुकी है| अब नेशनल हेरल्ड केस को ही लीजिये …” इतने में पास बैठे दिग्विजय सिंह जी ने राहुल बाबा को रोक दिया| खांसते हुए राहुल बाबा फिर बोले, “मेरा मतलब थे के नेशनल लेवल पे …. नेशनल लेवल पे कई केस हैं जैसे के DDCA का घोटाला जिसमे के केजरीवाल जी लिप्त हैं …. क्षमा कीजिये केतली जी … मेरा मतलब जेटली जी लिप्त हैं …. मेरा मतलब था के हो सकते हैं .. अभी सुबूत नहीं हैं|”

एक कप ब्लैक कॉफ़ी पीने के बाद राहुल बाबा फिर बोले, “तो मुद्दे पे आते हैं, सुबह उठकर मैंने सोचा के यार कल ही रात को तो मैं यूरोप जाऊंगा, तो मुझे लगा के ऐसे ही चला जाऊंगा? कुछ मज़ा नहीं आया| ये मज़ा नहीं आता तो मुझे मज़ा नहीं आता| तो मैंने सोचा के जाते हुए किसानों से मिलता जाऊं| फिर लगा के फ्लाइट जो दिल्ली से फ्रैंकफर्ट जाती है वो कच्छ और विदर्भ के ऊपर से ही जाती है| तो वहीँ से किसानों को बाई बाई करते हुए चला जाऊंगा|”

“लेकिन दिल से आई फिर वही आवाज़, मज़ा नहीं आया| तो मैंने फैसला किया है के अपने बीस दिन के टूर के बीच में मैं दो दिन के लिए इंडिया वापिस आऊंगा और अमेठी जाऊंगा| किसान भाइयों से मिलने उनका दुःख दर्द बांटने| ये विजिट सरप्राइज़ विजिट रहेगा तो आप उन्हें बताना मत के मैं चार तारिख को सुबह आठ बजे अमेठी लैंड करूँगा| और निश्चिन्त रहिये, सभी दरबारियों के लिए.. मेरा मतलब पत्रकारों के लिए हम विलायत से इनाम लाएंगे|”

हालाँकि ये अभी तय नहीं है की इटली में ज़मीनें देखने राहुल बाबा के जीजू श्री वाड्रा भी साथ जायेंगे के नहीं और अमेठी में राहुल बाबा का कार्यक्रम क्या रहेगा| पर कहा जा रहा है के वह राहुल बाबा वहां एक गरीब की झोपडी में सोयेंगे और वहां पकी रोटियां भी खाएंगे| कुछ किसानों को वो पिंक रंग की पगड़ियाँ भी बांटेंगे, जो वो अपनी बेटियों की शादियों में पहन सकें|