Monday, 23rd October, 2017

अमित शाह जी काम पर लगे, नामी राजनीतिकार लिखेंगे किताब

11, Aug 2017 By khakshar

पंद्रह दिन में बने मास्टर-शेफ। कैसे पाए मनचाही संतान। महिलाओं के शॉपिंग के दौरान पीड़ित पुरुष का दर्द कम करने के 101 नुस्खे। न जाने क्या-क्या तरह के शीर्षक के क़िताब आ गए हैं। के रिपोर्टर्स ने एक ऐसी किताबों के प्रकाशक से बात की। प्रकाशक “ढिंढोरा अग्रवाल”, दिल्ली में क़िताब छापते हैं। हालाँकि बात-चीत में वो प्रकाशक कम, आम आदमी पार्टी के कोई नेता जैसे बोलते हैं। लेखकों, दुकानदारों, रेल स्टेशन, पाठकों और सब पे अत्याचार, व्यभिचार, भ्रष्टाचार और मिला जुला आचार का दोष लगा दिए।

The monk who changed Fortuner for Crow
The monk who changed Fortuner for Crow

फिर भी उन्होंने कुछ रहस्य से पर्दा भी हटाया। बोले “आज-कल नेताओं किताब शीर्षक रजिस्ट्रेशन कराने होड़ लगी हैं। जिस तरह से अमित शाह जी काम पर लगे हैं, बहुत नेताओं के पास काम नहीं बचेगा। इसीलिए कुछ नेता लेखक बनने के फ़िराक़ में हैं।

हमने बहुत मालिश किया। ढिंढोरा जी पिघल गए और हमें रजिस्टर्ड टाइटल्स के नाम दे दिया। प्रस्तुत हैं कुछ नामी-गिरामी नेताओं के आनेवाले किताबों के टाइटल्स:

सुशासन से अंतरात्मा की आवाज़– नीतीश कुमार

मित्रों, भाइयों -बहनों बोलकर लपेटना–नरेंद्र मोदी

50 की उम्र तक कैसे बने रहे चिर युवा नेता– राहुल गाँधी

दोस्तों की बेवफ़ाई से कैसे बचे (पिक्चर अभी बाकी हैं)– अरविन्द केजरीवाल

लड़कों की गलती से कैसे बचे (अकलेस विशेष)– मुलायम सिंह यादव

अकेला योगी फोड़ेगा घड़ा– योगी आदित्य नाथ

कैसे चुप रहके यारों को मौज़ कराये– मनमोहन सिंह

राज्य का बदले जनसांख्यिकी (आँख दिखा कर)– ममता बनर्जी

सेटिंग करने के 201 तरीक़े– शाह

The monk who changed Fortuner for Crow (no Hindi in namma Bengaluru)–  सिद्धारमैया

कुछ भी,कहीं भी, कभी भी– डा संबित पात्र