Tuesday, 27th June, 2017

10 अप्रैल की दिनभर की बड़ी खबरें: नई महाभारत, NDA की बैठक

11, Apr 2017 By GADHEKI DUM

आज के फेकिंग न्यूज़ बुलेटिन में आप सभीका स्वागत है।

modi-kejriwal-650_650x400_61467195028
“मोदी जी कम से कम अब तो साज़िशें करना बाँध करिए” ईमानदारी के पुतले केजरीवाल ने कहा

श्री अरविन्द केजरीवाल ने आज फिर चुनाव आयोग पर EVM को लेकर हमला बोला। उनका कहना है की 200 में से 18 EVM का कोड बदला गया। जिसके चलते आम आदमी पार्टी को दिल्ली विधानसभा में 70 में से सिर्फ 67 सीटे मिली, जबकि पार्टी पूरी 70 सीटों की हकदार थी। यदि पूरी 70 सीटे आम आदमी पार्टी को मिलती तो हम विधानसभा में मार्शल की पोस्ट ही ख़ारिज कर देते। आज भाजपा के 3 विधायकों को बार-बार उठाने के लिए हमेशा मार्शलों की जरूरत पड़ती है। मार्शलों की सैलरी जनता के पसीने की कमाई से जाती है। चुनाव आयोग धृतराष्ट्र बनकर मोदीजी रूपी दुर्योधन को खुश करने में लगी है।

दिल्ली विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष श्री विजयेंद्र गुप्ता से जब इस बारेमे प्रतिक्रिया पूछी, तब वे हसने लगे। कौरवों के अनुपात में तो इनके विधायक है और पांडवों के अनुपात में हमारे विधायक है। अब आप ही समझ लीजिये कौन कौरव और कौन पांडव। श्री केजरीवालजी दुर्योधन और धृतराष्ट्र का डबलरोल कर रहे है और श्री मनीष सिसोदियाजी आँखों पर पट्टी बांधकर गांधारी बने हुए है।

उधर राष्ट्रपति पद के संभावित उम्मीदवार को लेकर NDA की महाबैठक में कई नामों पर विचार किया गया जिसमे मुख्य रूप से श्री अन्ना हजारे, श्री शरद पवार, श्रीमति कोकिलाबेन अम्बानी, इरोम शर्मीला, श्री अरविन्द केजरीवालजी के नाम चर्चा में रहे। उसमे श्री अरविन्द केजरीवालजी के नाम पर करीब-करीब सहमति बन गई है। बैठक में उपस्थित नेताओं ने श्री केजरीवालजी को राष्ट्रपति बनाने से उनकी खुजली-खासी सब बंद हो जाएगी ऐसा अनुमान लगाया है।

जब श्री केजरीवाल जी से पूछा गया की NDA का राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार चुने जाने पर उन्हें कैसा महसूस हो रहा है, तब पहले तो वे अंदर ही अंदर खुश हो रहे थे। लेकिन बाद में बोले “ये सब मोदीजी की चल है। मुझे पता है की भारत के राष्ट्रपति को कोई ख़ास अधिकार नहीं है। बस सरकार के निर्णयों पर हस्ताक्षर ही करने होते है। मुझे राष्ट्रपति बनवाकर वे मेरा पोलिटिकल करियर चौपट कराना चाहते है। आपने आज तक देखा की कोई राष्ट्रपति पद से निवृत्त होने के बाद सक्रीय राजनीती में लौटा हो? ये मुझे पॉलिटिकली मरवाना चाहते है।

शेष फेक न्यूज़ छोटेसे ब्रेक के बाद