Tuesday, 12th December, 2017

मौका-मौका : मीडिया का मंत्र

28, Mar 2015 By पुरानी बस्ती
मौका जीत का हो या हार का,
मौका जन्म का हो या मरन का,
मौका उत्तर का हो या दक्षिण का,
मौका सुख का हो या दुःख का,
मौका गिरने  का हो या उठने का,
मौका सफलता का हो या विफलता का,
मौका बाढ़ का हो या सूखे का,
मौका बीमारी का हो या सुधार का,
मौका लोकतंत्र का हो या तानाशाही का,
मौका आर्थिक उन्नति का हो या अवनति का,
मौका खेल का हो या षड़यंत्र का,
मौका कालाबाजारी का हो या घोटालो का,
हम हर पल मौके की तलाश में रहते हैं,
हम हर मौके पर कमाते है,
हम बाज़ारू मीडिया है,
हम हर मौके पर खबर बनाते है,
–  पुरानी बस्ती